रविवार, 22 जनवरी 2017

महिलाएं हमेशा से ही सशक्त रही हैं : मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे



महिलाएं हमेशा से ही सशक्त रही हैं : मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे
18 जनवरी, 2017

इंडिया टुडे वुमन समिट राजस्थान-2017
मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने कहा है कि हमारे देश में महिलाएं कभी कमजोर नहीं रहीं, वे शुरू से ही सशक्त रहीं हैं। सामाजिक बंधनों को तोड़कर वे आगे आई हैं और अपनी प्रतिभा के बल पर यह दिखा दिया है कि नारी शक्ति कमजोर नहीं है, उसे अपना रास्ता खुद बनाना आता है।

श्रीमती राजे बुधवार को होटल हिल्टन में आयोजित इंडिया टुडे वुमन समिट राजस्थान-2017 को सम्बोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि समाज में महिलाओं को लेकर पहले के मुकाबले काफी बदलाव आया है। जरूरत इस बात की है कि महिलाएं अपनी प्रतिभा को पहचानें और अपनी मंजिल चुनकर उसे हासिल करने का प्रयास करें।

शिक्षा में आगे बढ़ रहा है प्रदेश
श्रीमती राजे ने कहा कि राजस्थान कई क्षेत्रों में आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में पिछले तीन सालों में परिदृश्य बदल गया है। असर रिपोर्ट-2016 का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि प्रदेश के सरकारी स्कूलों के बच्चों में लर्निंग लेवल बढ़ा है। राजस्थान देश के उन चुनिंदा राज्यों में शामिल हो गया है जहां आठवीं कक्षा के बच्चों में रीडिंग लेवल बढ़ा है। उन्होंने कहा कि राजस्थान में छात्राओं के लिए स्कूलों में शौचालय बनवाने की राज्य सरकार की मुहिम की भी रिपोर्ट में सराहना की गई है। राजस्थान को देश के उन चार राज्यों में शामिल किया गया है जहां 80 प्रतिशत से ज्यादा स्कूलों में कार्यशील शौचालय हैं। इससे छात्राओं के स्कूल छोड़ने के प्रतिशत में कमी आई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज कोई सा भी क्षेत्र हो नारी-शक्ति पीछे नहीं हैं। महिलाएं अपनी प्रतिभा के बल पर व्यवसाय से लेकर राजनीति और पुलिस सेवा से लेकर इंजीनियरिंग तक हर क्षेत्र में अलग मुकाम हासिल कर रही हैं। उन्होंने कहा कि महिलाओं को सामाजिक-आर्थिक रूप से सक्षम एवं सशक्त बनाकर उन्हें बराबरी के अवसर उपलब्ध कराना राज्य सरकार की प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण महिलाओं के स्वास्थ्य एवं पोषण स्तर में सुधार के लिए राज्य सरकार ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा सहियोगिनी और एएनएम को एक साथ लाने की जो पहल की है उसे महाराष्ट्र जैसे राज्य में भी लागू किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के कुछ जिलों में लागू किए गए ट्रिपल ए कार्यक्रम के बहुत अच्छे परिणाम मिले हैं। इसे देखते हुए अन्य जिलों में भी राज्य सरकार इसे आगे बढ़ाएगी।

अपनी बेटियों को ज्यादा से ज्यादा पढ़ाएं
श्रीमती राजे ने कहा कि राजस्थान में संस्थागत प्रसव की संख्या बढ़ी है और इसके परिणामस्वरूप मातृ एवं शिशु मृत्यु दर के आंकड़ों में कमी आई है। उन्होंने कहा कि संस्थागत प्रसव बढ़े हैं क्योंकि महिलाएं शिक्षित हुई हैं। उन्होंने आह्वान किया कि माँ-बाप अपनी बेटियां को ज्यादा से ज्यादा पढ़ाएं ताकि उनका कल सुनहरा बन सके। उन्होंने कहा कि हमारी बेटियां ज्यादा से ज्यादा पढ़कर आगे बढ़ सके इसके लिए राज्य सरकार ने राजश्री योजना लागू की है जिसमें जन्म से लेकर 12वीं की पढ़ाई तक कुल पचास हजार रूपये दिए जाते हैं। उन्होंने कहा कि लड़कियों को ट्रांसपोर्ट वाउचर एवं स्कूटी देने की योजना बनाई गई है ताकि वे पढ़ाई करने के लिए प्रोत्साहित हों।

हमारे प्रयासों से बालिकाओं में हैप्पीनेस स्तर बढ़ा
मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने स्कूलों में छात्राओं के लिए शत प्रतिशत शौचालयों की व्यवस्था, किशोरियों के सम्पूर्ण स्वास्थ्य के लिए निःशुल्क सेनेटरी नैपकिन उपलब्ध कराने के जो प्रयास शुरू किए हैं, उनसे बालिकाओं में हैप्पीनेस का स्तर बढ़ा है। श्रीमती राजे ने कहा कि महिलाओं को आर्थिक रूप से सक्षम और सशक्त बनाने के लिए शुरू की गई भामाशाह योजना आज पूरे देश में एक मिसाल बन गई है। इस योजना के माध्यम से बिना किसी लीकेज के सरकारी योजनाओं का शत प्रतिशत पैसा लाभार्थी के खाते में पहुंच रहा है। पिछले 3 वर्ष के दौरान लगभग पांच हजार पांच सौ करोड़ रुपये लाभार्थियों के इन बैंक खातों में जमा किये गये हैं। आज 4.86 करोड़ लोग भामाशाह योजना में नामांकित हो चुके हैं।

उल्लेखनीय उपलब्धियों के लिए सात महिलाएं सम्मानित



कार्यक्रम में आंखों की खोई रोशनी वापस पाने के बाद दृष्टिहीनों के लिए काम कर रही भावना जगवानी को सामाजिक कार्य, अपने पहले प्रयास में आरजेएस टॉप करने वाली अतिरिक्त सिविल जज स्वाति व्यास को न्यायिक सेवा, सिरोही जिला प्रमुख पायल परसरामपुरिया को राजनीति, आईपीएस अधिकारी मालिनी अग्रवाल को प्रशासन, महिला उद्यमी विनी कक्कड़ को उद्यमशीलता, शूटर अपूर्वी चंदेला को खेलकूद एवं लोक गायिका इला अरूण को कला के क्षेत्र में उल्लेखनीय उपलब्धि के लिए इंडिया टुडे वुमन अवार्ड से सम्मानित किया गया। श्रीमती राजे ने पुरस्कार विजेता महिलाओं को ट्रॉफी वितरित की एवं ’नारी शक्ति का सर्वोच्च सम्मान’ पुस्तिका का विमोचन किया।

उन्होंने पुरस्कार हासिल करने वाली महिलाओं को बधाई दी और कहा कि सभी महिलाओं ने इस मुकाम तक पहुंचने के लिए बहुत संघर्ष किया है। यह पुरस्कार उन महिलाओं की बहादुरी और कठिन परिश्रम को भी दर्शाता है जो अपने-अपने क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य कर रही हैं।

इस अवसर पर इण्डिया टुडे ग्रुप के एडीटोरियल ग्रुप के श्री राज चेंगप्पा ने मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे के नेतृत्व में राजस्थान द्वारा अर्जित की गई उपलब्धियों का जिक्र करते हुए कहा कि श्रीमती राजे द्वारा महिलाओं एवं बच्चों को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में किए गए प्रयासों से राजस्थान में मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में कमी आई है। उन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में आए क्रांतिकारी परिवर्तन के लिए भी श्रीमती राजे की तारीफ की।

इण्डिया टुडे हिन्दी के सम्पादक श्री अंशुमान तिवाड़ी ने भी मुख्यमंत्री द्वारा किए गए श्रम सुधारों सहित विभिन्न नीतिगत सुधारों की प्रशंसा की।

जयपुर, 18 जनवरी 2017

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें