शनिवार, 7 जनवरी 2017

नोटबंदी और सर्जिकल स्ट्राइक की जय-जयकार : भाजपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी में






अमित शाह का पाकिस्तान के खिलाफ बड़ा बयान,
कहा- जरूरत पड़ी तो फिर कर सकते हैं सर्जिकल स्ट्राइक

Posted on: Jan 06, 2017

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने शुक्रवार को कहा कि पड़ोसी देश द्वारा भारत के खिलाफ छद्मयुद्ध जारी रखे जाने पर नरेंद्र मोदी सरकार पाकिस्तान के खिलाफ दोबारा 'लीक से हटकर' कार्रवाई कर सकती है.

पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक से पहले शाह ने यहां राष्ट्रीय पदाधिकारियों को संबोधित किया.

उनके संबोधन में पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर स्थित आतंकी लांचिंग पैड पर भारतीय सेना के सर्जिकल स्ट्राइक और 500 व 1000 रुपये के नोटों को बंद करने की केंद्र सरकार की पहल छाई रही.

पार्टी के सूत्र की माने तो, "बैठक के दौरान शाह ने गत 29 सितंबर को आतंकवादियों के खिलाफ की गई सैन्य कार्रवाई की प्रशंसा की और कहा कि अगर पाकिस्तान भारत में आतंकवादियों को भेजने की अपनी नीति जारी रखता है तो भारत उसके खिलाफ दोबारा लीक से हटकर कार्रवाई कर सकता है."

बैठक में जिन मुद्दों पर चर्चा की गई, उनमें चिटफंड घोटाले में केंद्रीय जांच ब्यूरो द्वारा तृणमूल कांग्रेस के सांसद सुदीप बंद्योपाध्याय को गिरफ्तार किए जाने के बाद पश्चिम बंगाल में पार्टी के कार्यालय और पार्टी कार्यकर्ताओं पर हमले भी शामिल थे.
उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, गोवा, पंजाब और मणिपुर में 4 फरवरी से 8 मार्च के बीच होने वाले विधानसभा चुनाव की दृष्टि से इस बैठक की काफी अहमियत रही.

बैठक में उपस्थित लोगों में महासचिव राम लाल, कैलाश विजयवर्गीय और पार्टी की दिल्ली शाखा के अध्यक्ष मनोज तिवारी शामिल थे.

उम्मीद है कि राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों के मद्देनजर रणनीति बनाने के लिए पार्टी नोटबंदी को प्रमुख मुद्दा के रूप में बनाएगी.

राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में अमित शाह उद्घाटन भाषण देंगे, जबकि दो दिवसीय बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समापन भाषण देंगे. बैठक में पार्टी के वरिष्ठ नेता, केंद्रीय मंत्री और भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री भाग लेंगे.

-------------------------------------
बीजेपी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक शुरू, रणनीतियों पर होगी चर्चा
विक्रांत यादव | News18India.com
First published: January 6, 2017


नई दिल्ली। बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की दो दिवसीय बैठक आज से शुरू हो गई है। दिल्ली के नई दिल्ली नगर पालिका परिषद कनवेंशन सेंटर में ये बैठक हो रही है । उत्तर प्रदेश, पंजाब समेत पांच राज्यों में चुनावी तारीखों का ऐलान हो चुका है। ऐसे में बीजेपी कार्यकारिणी की ये बैठक पार्टी के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। यह बैठक में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के नेतृत्व में हो रही है। इस दौरान आर्थिक और राजनीतिक प्रस्ताव पारित किए जाएंगे। बैठक के दूसरे दिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कार्यकारिणी के सदस्यों को संबोधित करेंगे।
उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर के लिए चुनाव आयोग ने तारीखों का ऐलान कर दिया है। जाहिर है कि नोटबंदी के बाद ये पहले विधानसभा चुनाव हैं, जहां बीजेपी के सामने चुनाव जीतने की बड़ी चुनौती है। ऐसे में चुनावी रणभेरी के बीच पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी भी बेहद महत्वपूर्ण है।
शुक्रवार सुबह दस बजे के करीब पार्टी पदाधिकारियों की बैठक होगी और शाम चार बजे के करीब कार्यकारिणी की बैठक औपचारिक रूप से शुरू होगी। इसकी शुरुआत पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के भाषण के साथ होगी। शनिवार को अगले दिन की बैठक की शुरुआत होने के बाद आर्थिक और राजनीतिक प्रस्ताव पेश किए जाएंगे। आर्थिक प्रस्ताव में नोटबंदी से होने वाले फायदों, किसानों और गरीबों के लिए शुरू की गई योजनाओं का जिक्र किया जाएगा। नोटबंदी को लेकर विपक्ष के आरोपों को भी खारिज करने का काम इसमें किया जाएगा। राजनीतिक हालत में देश के वर्तमान राजनीतिक हालत की चर्चा की जाएगी।
सूत्रों का कहना है कि उरी हमले के बाद पाकिस्तान पर हुए सर्जिकल स्ट्राईक का इसमें खासतौर से जिक्र किया जाएगा। इसे सीमा पार से होने वाले आतंकवाद के खिलाफ सरकार की बड़ी उपलब्धि के तौर पर बताते हुए ऐतिहासिक कदम बताया जाएगा। शनिवार को ही चार बजे के करीब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समापन भाषण देंगे।
सूत्रों का कहना है कि चुनावी बेला में हो रही इस कार्यकारिणी में यूं तो सभी राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों पर चर्चा होगी। लेकिन उत्तर प्रदेश की राजनीतिक महत्ता देखते हुए उस पर खास ध्यान रहेगा। कार्यकारिणी में आए हुए नेताओं से सरकार की उपलब्धियों, खासतौर से किसानों, दलितों, गरीबों के लिए शुरू की गई योजनाओं की जानकारी लेकर जनता के बीच जोरदार तरीके से जाने को कहा जाएगा। इसके अलावा पार्टी को साफ लगता है कि नोटबंदी के जरिए सरकार ने काला धन कारोबारियों, भ्रष्टाचार के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की है। जनता ने भी इस मसले पर सरकार का पूरा साथ दिया है। पर जनता को हुई परेशानियों को देखते हुए उनके बीच इसके फायदे और जोरदार तरीके से पहुंचाने को कहा जाएगा।
बैठक में आने वाले आम बजट के लिए सदस्यों के सुझाव भी लिए जाएंगे और सरकार को उन पर चर्चा करने के लिए भेजा जाएगा। इस बैठक में बीजेपी शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों, प्रदेश अध्यक्ष, पूर्व अध्यक्ष समेत करीब साढ़े तीन सौ सदस्य हिस्सा लेंगे।


------------
भाजपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी में नोटबंदी और सर्जिकल स्ट्राइक की जय-जयकार
By Lalit Rai Publish Date:Fri, 06 Jan 2017 


भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के अनुसार नोटबंदी के फैसले के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गरीबों के नए मसीहा बनकर उभरे हैं।
जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में सरकार के नोटबंदी और सर्जिकल स्ट्राइक के मुद्दे छाये रहे। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के अनुसार नोटबंदी के फैसले के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गरीबों के नए मसीहा बनकर उभरे हैं। कोझिकोड की राष्ट्रीय कार्यकारिणी पर उरी हमले की छाया थी, लेकिन नोटबंदी और सर्जिकल स्ट्राइक के बाद हो रही राष्ट्रीय कार्यकारिणी में आगामी विधानसभा चुनावों में जीत के भरोसे का उत्साह था।

दिल्ली के एनडीएमसी सेंटर में हो रही राष्ट्रीय कार्यकारिणी में पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के उदघाटन संबोधन में नोटबंदी और सर्जिकल स्ट्राइक ही मुख्य मुद्दा रहा। शाह ने विस्तार से बताया कि किस तरह से नोटबंदी देश की अर्थव्यवस्था को नई ऊंचाइयों पर ले जाएगी और सरकार के पास गरीब कल्याण योजनाओं के लिए ज्यादा धन होगा। उन्होंने कहा कि देश के 18-19 लाख करोड़ रुपये के सालाना बजट में विकास कार्यो पर असल में केवल चार लाख करोड़ रुपये ही खर्च होते हैं। नोटबंदी के बाद सरकार के पास एक-एक पैसे का हिसाब आ गया है और इससे सरकार की कर वसूली निश्चित रूप से बढ़ेगी। अतिरिक्त आए धन का उपयोग सरकार गरीबों के कल्याण के लिए करेगी।

उन्होंने कहा कि नोटबंदी के दौरान स्थानीय निकायों में लगभग 10 हजार प्रतिनिधियों के लिए चुनाव हो चुके हैं। जिनमें आठ हजार से अधिक भाजपा के प्रतिनिधियों ने जीत हासिल की है, जो सीधे-सीधे नोटबंदी पर आम जनता का समर्थन है। उन्होंने कहा कि पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों में भाजपा की भारी जीत होगी, सभी चुनावी सर्वेक्षणों में इसके संकेत मिल रहे हैं।


चुनावों में कालेधन के उपयोग पर रोक लगाने और राजनीतिक फंडिंग को पारदर्शी बनाने के प्रधानमंत्री की कोशिश को आगे बढ़ाते हुए भाजपा ने अपनी ओर से एक कमेटी का गठन किया है। कार्यकारिणी में लिए गए फैसले की जानकारी देते हुए भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि एक जिम्मेदार पार्टी होने के नाते भाजपा हमेशा से चुनावों में कालेधन के प्रयोग पर रोक लगाने का पक्षधर रही है। नई कमेटी इस दिशा में पार्टी द्वारा उठाए जाने वालों कदमों के बारे में सुझाव देगी। उन्होंने कहा कि अमित शाह ने प्रतिनिधियों को भाजपा शासित विभिन्न राज्यों में किये जा रहे सकारात्मक कामों की जानकारी दी।


=============

अमित शाह का पाकिस्तान के खिलाफ बड़ा बयान,
कहा- जरूरत पड़ी तो फिर कर सकते हैं सर्जिकल स्ट्राइक
Posted on: Jan 06, 2017 09:09 PM IST | Updated on: Jan 06, 2017

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने शुक्रवार को कहा कि पड़ोसी देश द्वारा भारत के खिलाफ छद्मयुद्ध जारी रखे जाने पर नरेंद्र मोदी सरकार पाकिस्तान के खिलाफ दोबारा 'लीक से हटकर' कार्रवाई कर सकती है.

पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक से पहले शाह ने यहां राष्ट्रीय पदाधिकारियों को संबोधित किया.

उनके संबोधन में पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर स्थित आतंकी लांचिंग पैड पर भारतीय सेना के सर्जिकल स्ट्राइक और 500 व 1000 रुपये के नोटों को बंद करने की केंद्र सरकार की पहल छाई रही.

पार्टी के सूत्र की माने तो, "बैठक के दौरान शाह ने गत 29 सितंबर को आतंकवादियों के खिलाफ की गई सैन्य कार्रवाई की प्रशंसा की और कहा कि अगर पाकिस्तान भारत में आतंकवादियों को भेजने की अपनी नीति जारी रखता है तो भारत उसके खिलाफ दोबारा लीक से हटकर कार्रवाई कर सकता है."

बैठक में जिन मुद्दों पर चर्चा की गई, उनमें चिटफंड घोटाले में केंद्रीय जांच ब्यूरो द्वारा तृणमूल कांग्रेस के सांसद सुदीप बंद्योपाध्याय को गिरफ्तार किए जाने के बाद पश्चिम बंगाल में पार्टी के कार्यालय और पार्टी कार्यकर्ताओं पर हमले भी शामिल थे.
उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, गोवा, पंजाब और मणिपुर में 4 फरवरी से 8 मार्च के बीच होने वाले विधानसभा चुनाव की दृष्टि से इस बैठक की काफी अहमियत रही.

बैठक में उपस्थित लोगों में महासचिव राम लाल, कैलाश विजयवर्गीय और पार्टी की दिल्ली शाखा के अध्यक्ष मनोज तिवारी शामिल थे.

उम्मीद है कि राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों के मद्देनजर रणनीति बनाने के लिए पार्टी नोटबंदी को प्रमुख मुद्दा के रूप में बनाएगी.

राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में अमित शाह उद्घाटन भाषण देंगे, जबकि दो दिवसीय बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समापन भाषण देंगे. बैठक में पार्टी के वरिष्ठ नेता, केंद्रीय मंत्री और भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री भाग लेंगे.

==========

BJP राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक में बोले शाह -
 नोटबंदी करके पीएम मोदी ने विपक्ष से गरीबों का मुद्दा छीन लिया
अखिलेश शर्मा की रिपोर्ट, अंतिम अपडेट: शुक्रवार जनवरी 6, 2017

नई दिल्ली: बीजेपी ने कहा है कि नोटबंदी कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गरीब समर्थक होने का मुद्दा कॉंग्रेस और बाकी विपक्षी पार्टियों से छीन लिया है और इसीलिए वो बौखलाई हुई हैं. पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि गरीबों ने नोट बंदी का पूरा समर्थन किया है.

बीजेपी की राष्‍ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में राष्‍ट्रीय पदाधिकारियों से पार्टी अध्‍यक्ष अमित शाह ने कहा कि विपक्ष नकारात्मक राजनीति कर रहा है और उसकी भूमिका विकास के क्रम में रुकावट पैदा करने वाली है. उन्‍होंने कहा कि नोटबंदी को आम जनता का व्यापक समर्थन मिला है, निकाय चुनाव के नतीजे इसका प्रमाण है. इसके साथ ही कहा कि पाकिस्तान का रवैया नहीं बदला तो आतंकवाद के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक भविष्य में भी होगा. इसके साथ ही पश्चिम बंगाल में सांप्रदायिक दंगों के लिए राज्य सरकार को उन्‍होंने जिम्मेदार ठहराया.

बैठक में टाइम मैगजीन में नरेंद्र मोदी की वोटर चॉइस लोकप्रियता पर भी चर्चा हुई. पदाधिकारियों की बैठक में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने विपक्ष पर हमला बोला .कहा कि भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई पर कई विपक्षी दल बाधा डाल रहे हैं. संसद की कार्रवाई नहीं चलने दी जा रही है और विपक्ष का रवैया अलोकतांत्रिक है.


उन्‍होंने निकाय चुनाव की सफलता को केंद्र सरकार के कामकाज पर जनता की मुहर बताया. साथ ही नोटबंदी और सर्जिकल स्ट्राइक को केंद्र सरकार के दो प्रमुख फैसलों को बताया. उन्‍होंने कहा कि दुनिया भर में पीएम के फैसलों की चर्चा हो रही है.

उन्‍होंने बंगाल में तृणमूल नेताओं के चिटफंड घोटाले की गिरफ्तारी के बाद बीजेपी दफ्तर पर हमले पर बोलते हुए कहा कि हिंसा पर वैचारिक रूप से नहीं लड़ सकते इसलिए बौखलाहट में हिंसा कर रहे हैं. इसलिए संवैधानिक संस्थाओं और पार्टी दफ्तरों पर हमला किया जा रहा है. अगर भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई हो रही है तो सबूतों के आधार पर कानूनी कार्रवाई का सामना करने के बजाय तृणमूल कार्यकर्ता हिंसा कर रहे हैं.

उल्‍लेखनीय है कि बीजेपी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में अमित शाह के अध्यक्षीय भाषण के बाद शाम 6:40 पर  राजनीतिक प्रस्ताव आएगा जिसे गृहमंत्री राजनाथ सिंह पेश करेंगे जिसके समर्थन में रमन सिंह और बंगाल के राहुल सिन्हा बोलेंगे.

==========

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें