गुरुवार, 2 फ़रवरी 2017

किसानों, गांवों , गरीबों एवं युवाओं को समर्पित बजट : मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे




किसानों, गांवों , गरीबों एवं युवाओं को समर्पित बजट : मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे
1 फरवरी, 2017


मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने केन्द्रीय वित्त मंत्री श्री अरूण जेटली द्वारा बुधवार को संसद में प्रस्तुत आम बजट का स्वागत करते हुए कहा कि यह बजट किसानों, गरीबों एवं युवाओं को समर्पित है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बजट में अन्त्योदय योजना के तहत महात्मा गांधी की 150वी जयंती (वर्ष 2019) तक एक करोड़ परिवारों को गरीबी से निजात दिलाने और अगले पांच वर्षों में किसानों की आय दुगनी करने के लक्ष्य रखे गये हैं। इससे साफ जाहिर होता है कि गांव, गरीब और किसान प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली केन्द्र सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता में हैं। उन्होंने कहा कि पूंजीगत व्यय में बढ़ोतरी में ढांचागत विकास बढ़ेगा व रोजगार के अवसर बढ़ेंगे।

श्रीमती राजे ने कहा कि किसानों को 60 दिन की ब्याज माफी, नाबार्ड में स्थापित दीर्घावधि सिंचाई निधि को 20 हजार करोड़ रुपये से बढ़ाकर 40 हजार करोड़ रुपये करना, 5000 करोड़ रुपये की आरंभिक निधि के साथ नाबार्ड में सूक्ष्म सिंचाई निधि की स्थापना, कृषि विज्ञान केन्द्रों में नई लघु प्रयोगशालाएं एवं मृदा नमूना परीक्षण के लिए इन केन्द्रों में सुविधाएं उपलब्ध कराने का फायदा किसानों को निश्चित रूप से मिलेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बजट में कौशल विकास एवं पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए ठोस कदम उठाये गये हैं। देशभर में 100 ‘भारत अंतर्राष्ट्रीय कौशल विकास केन्द्रों’ की स्थापना एवं 600 से ज्यादा जिलों में प्रधानमंत्री कौशल केन्द्रों के विस्तार से कौशल विकास को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने कहा कि बजट में डिजिटल अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने की दिशा में शानदार कदम उठाये गये हैं।

श्रीमती राजे ने कहा कि पर्यटन को बढ़ावा देने के लिये राज्यों की सहभागिता से पांच विशेष पर्यटन क्षेत्र स्थापित करने की पहल स्वागत योग्य है। छोटे शहरों में हवाई अड्डों के संचालन एवं रख-रखाव में पीपीपी लागू करने के प्रस्ताव से राजस्थान में एयर कनेक्टिविटी सुधारने के राज्य सरकार के प्रयासों को बल मिलेगा। उन्होंने बीकानेर में स्ट्रेटजिक क्रूड ऑयल रिजर्व स्थापित करने की घोषणा का भी स्वागत किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बजट में पांच लाख से कम आय पर आयकर की दर 10 प्रतिशत से घटा कर पांच प्रतिशत करते हुए मध्यमवर्ग को राहत प्रदान की गई है। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि यह बजट देश की अर्थव्यवस्था के विकास की रफ्तार को और बढ़ायेगा।

जयपुर, 1 फरवरी 2017

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें