मंगलवार, 23 मई 2017

बर्बरता का बदला: पाक चौकी को उड़ाया




बर्बरता का बदला: पाक चौकी को उड़ाया, 

लाइव हिन्दुस्तान टीम, नई दिल्ली 23 मई, 2017

पाकिस्तान की घुसपैठ के खिलाफ भारतीय सेना ने कार्रवाई करते हुए तोप से पाकिस्तान की चौकी तबाह कर दिया है। मेजर जनरल अशोक नरूला ने मंगलवार को बताया कि इस चौकी को आतंकवादियों की घुसपैठ मे मदद करने पर ये कार्रवाई की गई है। 6 मई को पाकिस्तानी सेना ने आतंकियों के साथ मिलकर एलओसी पार करके गश्त कर रहे भारतीय जवानों पर हमला किया था और इस हमले में दो जवान शहीद हुए थे। इसके बाद शहीद जवानों के शव के साथ बर्बरता की थी। इसका बदला लेते हुए भारतीय सेना ने नौ मई पाकिस्तान के नौशेरा में पाक की चौकी को तबाह कर दिया था। सेना ने 9 मई को किए गए इस ऑपरेशन में रॉकेट लॉन्चर्स, एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल, ऑटोमेटेड ग्रैनेड लॉन्चर्स का इस्तेमाल किया गया।

वहीं भारत में पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित ने नियंत्रण रेखा के नजदीक नौशेरा सेक्टर के पास स्थित पाकिस्तानी सेना के पोस्ट को तबाह करने के भारतीय सेना के दावे को खारिज कर दिया है। बासित ने एक टीवी चैनल से बातचीत के दौरान कहा कि पाकिस्तान सरकार की ओर से इस बारे में कोई रिपोर्ट अब तक नहीं मिली है। इसलिए शेखी बघारने की जरूरत नहीं है। दोनों देशों को चाहिए कि वह शांतिपूर्ण तरीके से मुद्दे को हल करे।

एक्सपर्ट का कहना है कि भारतीय सेना के इस हमले में पाकिस्तान के 20 से 25 सैनिकों के मारे जाने की संभावना है, क्योंकि अमूमन एक पोस्ट में एक वक्त में तकरीबन इतने ही सैनिक रहते हैं।

अशोक नरूला ने बताया कि एलओसी पर हमारा कब्जा है और नौशेरा में हुई कार्रवाई का 24 सेंकेड का वीडियो जारी कर दिया है। सेना का कहना है कि जम्मू-कश्मीर से 100 किलोमीटर दूर नौशेरा में सेना ने पाकिस्तानी चौकियों के खिलाफ कार्रवाई की है। पाकिस्तान की ओर से बर्फ पिघलने से और दर्रें पिघलने से घुसपैठ की आशंका है।

सर्जिकल स्ट्राइक: भारतीय सेना ने PoK में 3KM घुसकर 38 आतंकियों को किया ढेर

सेना ने इस मामले में 24 सेकंड का वीडियो जारी किया है। जिसमें यह दिखाई दे रहा है कि किस प्रकार सेना ने पाकिस्तानी पोस्ट को ध्वस्त कर दिया हैं। इस दौरान करीब 21 ब्लास्ट हुए और पाकिस्तान की पोस्ट पूरी तरह बर्बाद हो गई।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी की तरफ से हो रही गोलाबारी से भारत के गांवों को भी भारी नुकसान पहुंचता है। उन्होंने कहा कि पड़ोसी देश की सीमा पर घुसपैठ रोके। नरूला ने बताया कि हमने हाल में नौशेरा में जो कार्रवाई की है वह घुसपैठियों के खिलाफ ही थी। यह कार्रवाई हमारी आतंकवाद विरोधी अभियान का हिस्सा है।

सेना का कहना है कि हम कश्मीर में अमन और शांति चाहते हैं। हम इसके लिए सीमा पर घुसपैठ को नियंत्रित करने की कोशिश कर रहे हैं, ताकि आतंकियों की संख्या कम से कम हो और राज्य के युवा गलत राह पर न चलें। हम आतंकियों को रोकने के लिए सीमा पर इस तरह की कार्रवाई करते रहते हैं।

गौरतलब है कि 6 मई की सुबह पाकिस्तानी सेना ने आतंकियों के साथ मिलकर एलओसी पार करके गश्त कर रहे भारतीय जवानों पर हमला किया था और इस हमले में दो जवान शहीद हुए थे। भारतीय शहीदों के शवों के साथ पाकिस्तान ने बर्बरता की थी। उस वक्त सेना ने साफ किया था कि इस हमले का माकूल जवाब जरूर दिया जाएगा।

- कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि पाक की चौकियों को तबाह करने के लिए मैं भारतीय सेना के साहस को सल्यूट करता हूं।

- शिवसेना नेता अरविंद सावंत ने कहा, देर आए दुरुस्त आए, अब नहीं रुकना है। अब सोचो लाहौर जाकर तिरंगा लहराना है।

--------------

24 सेकेंड में भारतीय सैनिकों ने दागे 16 गोले, और बर्बाद हो गया LoC से सटा पाकिस्तानी पोस्ट

Tuesday, May 23, 2017

नई दिल्ली: सेना ने मंगलवार (23 मई) को दावा किया कि सीमा पार से हमला रोकने के लिए आतंकवाद-रोधी रणनीति के तहत हालिया कार्रवाई में जम्मू एवं कश्मीर में नियंत्रण रेखा से सटी पाकिस्तानी सेना की कई चौकियों को नष्ट कर दिया गया. मेजर जनरल अशोक नरूला ने संवाददाताओं से कहा, "पाकिस्तानी सेना सशस्त्र घुसपैठियों की सहायता करती है.. नौशेरा (राजौरी जिले का सीमा सेक्टर) में हालिया कार्रवाई में हमने पाकिस्तानी सेना की कई चौकियों को तबाह कर दिया."

यह पूछे जाने पर इन हमलों को कब अंजाम दिया गया, नरूला ने कहा कि यह 'हाल का, बेहद हाल का' अभियान है. उन्होंने विस्तृत जानकारी नहीं दी, लेकिन एक वीडियो क्लिप साझा किया, जिसमें एक जंगल क्षेत्र में बमबारी और विस्फोट के बाद धुआं उठता दिख रहा है.

भारतीय सेना के एडीजीपीआई मेजर जनल अशोक नरुला ने कहा कि आतंकियों को रोकने के लिए इस तरह की कार्रवाई आगे भी जारी रहेगी. भारतीय सेना ने नौशेरा सेक्टर से सटे पाकिस्तानी सेना की पोस्ट की तबाही का वीडियो जारी करते हुए कहा कि जिन पोस्ट को तबाह किया वहां से घुसपैठ होती थी.

मेजर जनरल नरूला ने कहा, "नियंत्रण रेखा से सटे इलाकों में कार्रवाई की गई. यह हमारे आतंकवाद रोधी रणनीति का हिस्सा है, ताकि (राज्य में) आतंकवादियों की संख्या में कमी लाई जा सके और कश्मीरी युवा गलत राह न पकड़ें." उन्होंने कहा कि भारतीय सेना इस बात से अवगत है कि बर्फ पिघलने के साथ ही घुसपैठ के प्रयास में वृद्धि होगी. उन्होंने कहा, "भारतीय सेना नियंत्रण रेखा पर पूरी सक्रियता से तैनात है. हम जम्मू एवं कश्मीर में शांति चाहते हैं."

इससे पहले पाकिस्तान रेंजर्स ने बुधवार (17 मई) को जम्मू-कश्मीर के बालाकोट सेक्टर में नियंत्रण रेखा की अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी कर संघर्ष विराम का उल्लंघन किया था. रक्षा प्रवक्ता ने कहा, ‘‘पाकिस्तानी सेना ने बालाकोट सेक्टर में नियंत्रण रेखा की अग्रिम चौकियों पर आधी रात को 12 बजकर 50 मिनट पर गोलीबारी करना शुरू की थी.’’ प्रवक्ता ने बताया कि पाकिस्तानी सैनिकों ने जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले में नियंत्रण रेखा पर कल रात अग्रिम चौकियों एवं असैन्य इलाकों में भी गोलीबारी की. यह गोलीबारी देर रात डेढ़ बजे तक लगातार चली.

उन्होंने बताया कि पाकिस्तान सेना ने नौशेरा सेक्टर में मंगलवार (16 मई) शाम साढ़े छह बजे अंधाधुंध छोटे हथियारों, स्वचालित हथियारों से गोलीबारी की और 82 एमएम और 120 एमएम के मोर्टार दागे. यह हमला मंगलवार रात नौ बजे तक जारी रहा.

पाकिस्तान रेंजर्स ने 15 और 16 मई की दरमियानी रात को भी राजौरी जिले के तीन क्षेत्रों में नियंत्रण रेखा पर अग्रिम चौकियों एवं असैन्य इलाकों में गोले दागे थे. नौशेरा सेक्टर में 13 मई को नियंत्रण रेखा के पास असैन्य इलाके में मोर्टार दागे जाने की घटना में दो लोगों की मौत हो गई थी और तीन अन्य लोग घायल हो गए थे.

सीमा-पार से हो रही गोलीबारी एवं गोलेबारी में करबी 10,000 लोग प्रभावित हुए हैं. पाकिस्तान की ओर से की गई गोलीबारी में नियंत्रण रेखा पर प्रभावित कस्बों से करीब 1700 लोगों को राहत शिविरों में स्थानांतरित किया गया है.

डीसी ने बताया कि सीमा पार से लगातार हो रही गोलाबारी में 2,694 परिवारों के करीब 10,042 लोग प्रभावित हुए हैं. उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन ने मृतकों के निकटतम रिश्तेदार को तत्काल एक-एक लाख रुपए राहत राशि देने और घायलों को भी आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है.

चौधरी ने बताया कि प्रशासन और अधिक राहत शिविर बनाने को तैयार है और इसके लिए 25 इमारतों को भी निर्धारित किया गया है. उन्होंने बताया कि शिक्षा प्रभावित न हो यह सुनिश्चित करने के लिए स्कूल की कक्षाएं भी इस सप्ताह से बहाल की जाएगीं.

गृह मंत्रालय के एक आरटीआई को दिए जवाब के अनुसार पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा वर्ष 2015 में 405 की तुलना में वर्ष 2016 में 449 संघर्ष विराम का उल्लंघन किया और दो साल में 23 सुरक्षा कर्मियों की मौत हुई है.

तीन साल बाद भी देश में मोदी लहर : अरविन्द सिसौदिया


26 मई को प्रधानमंत्री माननीय श्री नरेन्द्र मोदी जी की सरकार के तीन साल पूरे हो जायेंगे और चौथा साल लग जायेगा। देश के तमाम बडे अखवारों एवं मीडिया हाउसेज ने अपने अपने तरीके से जनता के मन को टटोला हे। और घोषण की हैं कि जनता इस समय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के साथ हे। यह सब यूं ही हो रहा है ऐसा नहीं है। बल्कि प्रधानमंत्री मोदी जी 18 - 18 घंटेे काम कर तेजी से कामों को निंबटा रहे है। परिणाम देने के लिये परिश्रम कर रहे है। इसलिये यह सर्वे आ रहे हैं। आओ हम सभी पार्टी के कार्यकर्ता और समर्थक इस महान अवसर को अपने - अपने परिश्रम से और  महान तथा यशस्वि बनानें में जुट जायें। 
- अरविन्द सिसौदिया, जिला महामंत्री भाजपा 
जिला कोटा राजस्थान   9509559131



तीन साल बाद भी देश में मोदी लहर, अभी चुनाव हुए तो NDA को मिल सकता है पूर्ण बहुमत : सर्वे
By Digital Live News Desk | Updated Date: May 23 2017
http://www.prabhatkhabar.com

नयी दिल्ली : नरेंद्र मोदी की अगुआई में केंद्र में NDA सरकार ने अपना तीन साल पूरा कर लिया है. तीन साल पूर्ण करने के बाद मोदी सरकार लोगों के सामने अपनी तीन साल की उपलब्धियों को गिना रही है वहीं दूसरी ओर विपक्ष मोदी सरकार की नाकामियों को उजागर करने में लगी है. विपक्ष का दावा है कि मोदी सरकार ने तीन साल में कुछ भी विकास का काम नहीं किया है

इधर मोदी सरकार के तीन साल पूरा होने के मौके पर एबीपी न्यूज-सीएसडीएस-लोकनीति ने सर्वे कराया है और केंद्र सरकार को लेकर लोगों का मूड जानने का प्रयास किया है. सर्वे के अनुसार तीन साल बाद भी लोगों ने नरेंद्र मोदी की अगुआई में केंद्र सरकार का समर्थन किया है. सर्वे के अनुसार अभी अगर लोकसभा के चुनाव होते हैं तो फिर से केंद्र में मोदी सरकार की संभावना है.

एबीपी न्यूज-सीएसडीएस-लोकनीति सर्वे के अनुसार अभी चुनाव हुए तो एनडीए को 331 सीटें मिल सकती है. हालांकि 2014 की तुलना में एनडीए को 4 सीट का नुकसान होने की संभावना है. 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी की अगुआई में एनडीए को 335 सीटें मिली थीं. सर्वे के अनुसार राहुल गांधी की अगुआई में यूपीए के लिए भी राहत की खबर है. सर्वे के अनुसार अभी चुनाव हुए तो यूपीए को 104 सीटें मिल सकती है.

एबीपी न्यूज-सीएसडीएस-लोकनीति की सर्वे के मुताबिक बिहार, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, झारखंड और पूर्वोत्तर के राज्यों में एनडीए को 2014 से भी ज्यादा सीटें मिलने का अनुमान है.

* बिहार-झारखंड में NDA को हो सकता है नुकसान
एबीपी न्यूज-सीएसडीएस-लोकनीति सर्वे के मुताबिक पूर्वी भारत में भले ही एनडीए को फायदे मिलने का अनुमान है लेकिन बिहार और झारखंड में उसे कुछ सीटों का नुकसान हो सकता है. सर्वे के मुताबिक लालू यादव को कोई खास नुकसान नहीं पहुंचेगा. ओडिशा, बंगाल और असम में एनडीए को फायदा हो सकता है.

--------------

'नमो' का जलवा कायम, आज चुनाव हुए तो फिर मोदी सरकार का अनुमान: सर्वे

नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: May 22, 2017
http://navbharattimes
नई दिल्ली
करीब 3 साल पहले 26 मई 2014 को नरेंद्र मोदी की अगुवाई में एनडीए की सरकार केंद्र की सत्ता पर काबिज हुई। इस समय जहां केंद्र सरकार 3 साल में अब तक किए गए काम का प्रचार करने में लगी है, वहीं विपक्ष सरकार की नाकामियों को उजागर करने का दावा कर रहा है। इस बीच एक सर्वे के मुताबिक 2014 की तरह मोदी लहर चल सकता है। अगर आज चुनाव हुए तो मोदी सरकार फिर से सत्ता में आ सकती है।

आज हुए चुनाव तो NDA फिर 300 के पार
एबीपी न्यूज-सीएसडीएस-लोकनीति के सर्वे के मुताबिक अगर आज चुनाव हुए तो एनडीए को 331 सीटें मिल सकती हैं जबकि 2014 में इसे 335 सीटें मिली थीं। यूपीए को 104 सीटों का अनुमान लगाया गया है जो 2014 से 44 ज्यादा है। अन्य के खाते में 108 सीटें आ सकती हैं जो 2014 के मुकाबले 40 कम है। एनडीए के वोट शेयर में 7 फीसदी का इजाफा हो सकता है।

पूर्वी भारत में NDA को पहले से ज्यादा सीटों का अनुमान

एबीपी न्यूज-सीएसडीएस-लोकनीति की सर्वे के मुताबिक बिहार, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, झारखंड और पूर्वोत्तर के राज्यों में एनडीए को 2014 से भी ज्यादा सीटें मिलने का अनुमान है। इन राज्यों में लोकसभा की कुल 142 सीटें हैं। सर्वे में एनडीए को 71 सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है, जो 2014 के मुकाबले 16 ज्यादा है। यूपीए को थोड़ा नुकसान हो सकता है और उसे 25 सीटें मिल सकती हैं। 2014 में यूपीए को 28 सीटें मिली थीं। अगर आज चुनाव हुए तो पूर्वी भारत में अन्य के खाते में 46 सीटें आ सकती हैं जो 2014 से 19 कम है। पूर्वी भारत में एनडीए के वोट शेयर में करीब 14 प्रतिशत की बढ़ोतरी हो सकती है।

बिहार और झारखंड में NDA को हो सकता है नुकसान
सर्वे के मुताबिक पूर्वी भारत में भले ही एनडीए को फायदे मिलने का अनुमान है लेकिन बिहार और झारखंड में उसे कुछ सीटों का नुकसान हो सकता है। सर्वे के मुताबिक भ्रष्टाचार के आरोपों से लालू यादव को कोई खास नुकसान नहीं पहुंचेगा। ओडिशा, बंगाल और असम में एनडीए को फायदा हो सकता है।

उत्तर भारत में फीका पड़ सकता है मोदी का जादू
सर्वे के मुताबिक यूपी, दिल्ली, हरियाणा, पंजाब जैसे उत्तर भारत के राज्यों में कुल मिलाकर एनडीए को कुछ सीटों का नुकसान हो सकता है। उत्तर भारत की कुल 151 सीटों में एनडीए को 116 सीटें मिल सकती हैं जो 2014 के मुकाबले 15 कम है। यूपीए को 15 सीटें मिल सकती हैं जो पहले से 9 ज्यादा है। सर्वे में अन्य के खाते में 20 सीटों का अनुमान किया गया है जो 2014 के मुकाबले 6 ज्यादा है। सर्वे के मुताबिक हरियाणा और पंजाब में एनडीए को नुकसान हो सकता है। सर्वे के मुताबिक उत्तर भारत में एनडीए को 50 प्रतिशत वोट मिल सकते हैं जबकि यूपीए को 18 प्रतिशत वोट मिलने का अनुमान है।

पश्चिम-मध्य भारत में NDA को मामूली नुकसान
गुजरात, एमपी, जैसे पश्चिम-मध्य भारत के राज्यों में एनडीए को मामूली घाटा हो सकता है। पश्चिम-मध्य भारत में कुल 118 सीटें हैं जहां एनडीए को 105 सीटें मिलने का अनुमान है जबकि 2014 में उसे यहां 109 सीटें मिली थीं। इस तरह एनडीए को 4 सीटों का घाटा हो सकता है। इस क्षेत्र में यूपीए को 12 सीटें मिल सकती हैं जो 2014 के मुकाबले 3 ज्यादा है। अन्य के खाते में भी 1 सीट आ सकती है। 2014 में यहां अन्य के खाते में एक भी सीट नहीं गई थी। पश्चिम मध्य भारत में एनडीए का वोट शेयर बढ़ सकता है। सर्वे में इस क्षेत्र में एनडीए को 56 प्रतिशत वोट मिलने का अनुमान है जो 2014 के मुकाबले 3 प्रतिशत ज्यादा है।

दक्षिण भारत में UPA को फायदा
सर्वे के मुताबिक दक्षिण भारत की कुल 132 सीटों में एनडीए को 39 सीटें मिल सकती हैं जो 2014 के मुकाबले सिर्फ एक कम है। एनडीए को आंध्र प्रदेश और केरल में फायदा हो सकता है। दक्षिण भारत में यूपीए को जबरदस्त फायदा मिल सकता है। यहां उसे 52 सीटें मिल सकती हैं जो 2014 के मुकाबले 29 ज्यादा है।

कैसे हुआ सर्वे
एबीपी न्यूज के मुताबिक सर्वे 1 मई से 15 मई के बीच किया गया। इसके लिए 19 राज्यों की 146 विधानसभा सीटों की 584 पोलिंग के 11373 लोगों से बातचीत की गई है।
---------------

सर्वे:अभी हुए चुनाव तो बनेगी मोदी की NDA सरकार, वोट बैंक में भी इजाफा
लाइव हिन्दुस्तान टीम, नई दिल्ली
http://www.livehindustan.com

केन्द्र की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार को 26 मई को तीन साल पूरे हो जाएंगे। इन तीन सालों में मोदी सरकार की लोकप्रियता कम नहीं हुई है। लोकनीति-CSDS-एबीपी न्यूज के सर्वे के मुताबिक, अगर आज चुनाव हुए तो एनडीए को 331 सीटें मिलेगी। 2014 के लोकसभा चुनावों के मुकाबले एनडीए को सिर्फ 4 सीटों का नुकसान हो रहा है।

वहीं यूपीए को 104 सीटें मिलने का अनुमान है और उसे 44 सीटों का फायदा हो रहा है। वहीं अन्य को 108 सीटें मिलेंगी और उन्हें 40 सीटों का नुकसान हो रहा है।

बीजेपी के वोट बैंक में इजाफा
2014 के लोकसभा चुनावों के मुकाबले बीजेपी के वोट बैंक में पिछले तीन सालों में आठ प्रतिशत का इजाफा हुआ है। 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी को 31 फीसदी वोट मिले थे जो सर्वे के मुताबिक, 2017 में 39 फीसदी हो गया है। वहीं बीजेपी सहयोगियों के वोट प्रतिशत में सिर्फ एक फीसदी का इजाफा हुआ है।

सर्वे के मुताबिक, कांग्रेस के वोट बैंक में भी दो फीसदी का इजाफा हुआ है। 2014 में कांग्रेस को 19 फीसदी वोट मिला था जबकि सर्वे के मुताबिक अभी चुनाव हुए तो कांग्रेस को 21 फीसदी फोटो मिलेंगे। यूपीए के वोट बैंक में एक फीसदी का इजाफा हुआ है।


अन्य राजनीतिक दलों का हाल

पार्टी        2014 लोकसभा चुनाव       सर्वे 2017
बसपा                4                           3
लेफ्ट पार्टी          5                           3
अन्य दल           27                          22


सर्वे के अनुसार, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 'अच्छे दिन' को पांच में से तीन लोगों अच्छा बताया है।

नरेंद्र मोदी प्रतिशत
अच्छे दिन सफल 63
अच्छे दिन फेल 27
कुछ भी कहने से मना किया 10



पीएम मोदी के अच्छे दिन को लेकर हिन्दुओं में जहां आज भी विश्वास कायम है। 66 फीसदी हिन्दू मानते है कि अच्छे दिन आए है। वहीं मुस्लिम समुदाय में मिली जुली प्रक्रिया देखने को मिली। 43 फीसदी मुसलमानों का मानना है कि अच्छे दिन आए हैं तो 45 फीसदी मुसलमानों का मानना है कि अच्छे दिन नहीं आए हैं।



  मोदी अच्छे दिन लाए मोदी अच्छे दिन लाने में विफल   कोई प्रतिक्रिया नहीं
हिन्दू        66 24 10
मुस्लिम 43 45 12
क्रिश्चन 51 37 12
सिख 54   38 8


सर्वे में हिस्सा लेने वाले 25 फीसदी लोगों का मानना है कि इस वक्त देश के सामने सबसे बड़ी समय बेरोजगारी है। वहीं कालाधन सबसे अब कोई मुद्दा नहीं है। सिर्फ दो प्रतिशत लोगों ने इसको देश की समस्या बताया।

देश के सामने समस्या प्रतिशत
बेरोजगारी 25
गरीबी          16
कीमत बढ़ना   8
विकास की कमी, बुनियादी सुविधाएं 8
काला धन           2
अन्य मामले 16
कोई प्रतिक्रिया नहीं 12


सर्वे के मुताबिक, पिछले तीन सालों में पीएम मोदी की लोकप्रियता कम नहीं हुई है। कोई दूसरा नेता उनके आसपास भी नहीं ठहराता है। उनको छोड़कर किसी भी नेता की लोकप्रियता दहाई का आकंडा नहीं छू पाती है। लोकप्रियता के मामले में राहुल गांधी नौ फीसदी के साथ दूसरे पायदान पर हैं।

नेता प्रतिशत
नरेंद्र मोदी 44
राहुल गांधी 9
सोनिया गांधी 3
मायावती         3
नीतिश कुमार 2
मनमोहन सिंह 2
अखिलेश यादव 2
ममता बनर्जी 1