पोस्ट

जून 15, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

महाराणा प्रताप कठे?

चित्र
१५ जून २०१०  , अदम्य साहस एवं वीरता के प्रतीक महाराणा प्रताप की आज जयंती है। महाराणा प्रताप के 470वें जन्मदिन पर उनका पुण्य स्मरण में कई कार्यक्रम पूरे राष्ट्र में अपने अपने तरीके से आयोजित किए गए।  ताजा दोर के कुछ ज्ञात मान सपूतों में  गुरु गोविन्द सिंह , महाराणा प्रताप और छत्रपति शिवाजी  प्रमुख  हें , हलाकी भारत माता ने देश धर्म की रक्षा के लिए , समय समय पर अपनी वीर सपूत कोख से अनगिनित सपूत पैदा किये ,  रानी दुर्गावती और महारानी लक्ष्मी बाई का पावन स्मरण भी अनिवार्य हे , बुन्देल खंड   के  महान योधा छ्त्रशाल के संघर्स को भी नमन हे , अनाम शहीदों   की यह माला ही हे जिसने भारत  देश को हजारों सालों की गुलामी के बाबजूद जीवित रखा हे, में तो तुलसीदास  जी को भी एक महान योधा ही मानता हु जीनोहने समाज को मूर्छित अवस्था में , हनुमान चालीसा और रामचरित मानस के द्वारा  नई चेतना का संचार किया , पूरा  देश रामलीला मंचन और अखाड़ों  के द्वारा  नव स्फूर्त होगया ,. यह तब हुआ जब मुग़ल सर्व शक्ति मान   थे . हे मात्र भूमि भारत माता तुझे सब मालूम हे कब क्या करना हे ,  तुने ही बाबू सुभाष , तुने ही मह