पोस्ट

जुलाई 3, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

मुख्यमंत्री अब्दुल्ला सरकार भंग कि जाये

इमेज
   हो जाने दो एक और तांडव नृत्य      हिन्दुओं को अमरनाथ यात्रा पर आने से हतोत्साहित करने कि सोची समझी चाल  --अरविन्द सीसोदिया हिदुओं के पवित्र तीर्थ बाबा अमरनाथ कि यात्रा प्रारंभ होने के ठीक पूर्व , कश्मीर में पाकिस्तान प्रेरित  अलगाववादी संगठनों के द्वारा , पूर्व नियोजित तरीके से  अशांति   का वातावरण बनाया जाना , एक सोची समझी चाल है. इस के पीछे मूलरूप से हिन्दुओं को अमरनाथ यात्रा पर आने से हतोत्साहित करना हे . यह सब जानते हें कि जब तक कश्मीर में सेना हे तब तक ही कश्मीर हे ..! कश्मीर से सेना को खदेड़ने कि और हिन्दुओं को अमरनाथ जाने से रोकने कि साजिस के तहत ही यह सब कुछ हो रहा हे .   कम उम्र बच्चों के द्वारा,  भारतीय सेना पर पत्थर   फेंकना , घायल करना और इसके लिए ५०० रूपये  का इनाम देना, ट्रकों के ट्रक पत्थर एकत्र कर के उसे सेना के विरुद्ध इस्तेमाल करना , मानव अधिकार उलंघन के आरोप लगाना यह सब सरकार कि सह  पर हो रहा हे . राज्य सरकार कि सह के बिना  यह हो ही नही सकता, जरूरत हे कि उमर अबुदूलाह सरकार भंग कि जाये  . .   कश्मीर में फिर वही आग कि लपटने उठने लगीं हें , फिर से स्वायतत्त