पोस्ट

सितंबर 20, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

राहुल गांधी की राजनैतिक अपरिपक्वता,जगमोहन जैसा राज्यपाल लगायें

इमेज
-  अरविन्द सीसोदिया      कश्मीर के मुख्य मंत्री उमर अब्दुल्ला को और समय और सहयोग देने की बात कर राहुल गांधी ने राजनैतिक अपरिपक्वता का परिचय दिया है...! समस्या से मुह मोड़ लेना समस्या का हल नहीं होता, इस वक्त यह स्थपित सत्य है क़ी उमर विफल हो  चुके हैं .., उन्हें बनाये रखना खतरे से खाली नही है.., वहां सरकार निलंवित कर  जगमोहन  जैसा राज्यपाल लगा कर स्थिती नियंत्रित  करनी चाहिए..!      राहुल गांधी जो वंश परंपरा कि एक नई पीढी के अवतार हैं .., मूलतः राजनैतिक समझ में परिपक्व होने चाहिए.., मगर अभी तक उनके द्वारा किये गए  विविध प्रकार के क्रिया कलापों में वह बात नजर नहीं आई जो इस तरह के परिवार में जन्में एक व्यक्ति में होनी चाहिए..! युवा क़ी जहाँ तक बात करें  तो अब राहुल (40 वर्ष) उस एज ग्रुप से तो बहार होते जा रहे हैं ..! भावनाओं की बात कहें तो यह समझ में आता है कि युवा वर्ग पर्याप्त मात्रा में हो.., और वह कहाँ हो .., मुझे लगता है क़ी पंचायती राज और पालिकाओं के  सिस्टम में जनप्रतिनिधित्व वर्ग ५० से कम ऊम्र का होना चाहिए.., मगर जवावदेह पदों पर अनुभव कि दरकार को नजर अंदाज नहीं किया जा सकता.