पोस्ट

सितंबर 24, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

भारत और राक्षस चीन

राक्षस जैसी स्थिति में पहुच चुके चीन को समझने के लिए यह लेख काफी सहायक होगा यही मानते हुए इसे प्रस्तुत किया गया ..,डॉ. राम तिवारी को इस तरह कि तथ्यात्मक जानकारी के लिए बहुत बहुत साधुवाद ..,  भारत में चीन के प्रती जो नर्म रवैया जवाहरलाल नेहरू जी ने वर्ता है , उस पर आगे चर्चा करेंगे..! चीन को इतना बड़ा भष्मासुर बनाने में हमारा भी योगदान कम नहीं है..!! नेहरू जी ने कई कांटे इस देश को दिए हैं उनमें जम्मू और कश्मीर से भी ज्यादा खतरनाक  मशला चीन का है..,,  - अरविन्द सीसोदिया  भारत कि सुरक्षा को चीन की चुनौती:डाँ. राम तिवारी ( हिमालिनी नेपाल की एकमात्र हिन्दी पत्रिका है यह लेख उसमें २ दिसंबर २००९ के अंक में प्रकाशित हुआ था , सम्पूर्ण विश्व और भारतवासियों  के लिए यह सारगर्भित जानकारी प्रस्तुत है..... ) चीन विश्व में सर्वाधिक जनसंख्या वाला देश है। वर्तमान में इसकी कुल जनसंख्या 1 अरब 27 करोड़ 31 लाख से अधिक है। इस देश की राजधानी बीजिंग (पुराना नाम पीकिंग) है तथा प्रमुख भाषा चीनी (मेंडारिन) है। इस देश का प्रमुख धर्म सरकारी स्तर पर अनीश्वरवादी है फिर भी ज्यादातर आबादी बौद्ध व ताओ धर्म की अन