पोस्ट

अक्तूबर 18, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

विश्व पटल पर, हिन्दू का हितचिन्तक कौन ...?

इमेज
बांग्लादेश में दुर्गापूजा  उत्सव के दौरान कई जगह हिंसा - अरविन्द सीसोदिया   सवाल यह है कि दुनिया का कोई भी धर्म या पंथ .., हिन्दू समाज में तो जीवित रह सकते हैं.., मगर गैर हिदू समाज में कोई धर्म या पंथ या सम्प्रदाय जीवित नहीं रह सकता..! इस तरह हजारों सबूत बिखरे पड़े हैं.. कश्मीर में .., पंडितों को घाटी  से बाहर कर दिया गया..! पाक्स्तान जहाँ हिन्दू आबादी को शैने शेनें  समाप्त किया जा रहा है...! बांगला देश  के बारे में तसलीमा से बेहतर कोई उदाहरन नहीं हो सकता..! उसका सिर लाने पर इनाम है...! वहां हिन्दुओं के साथ जो घट रहा है उसका सच बाहर नहीं आ पा रहा.., दुर्गा पूजा में उपद्रव तो महज एक  झलक  है....!  सवाल .....? विश्व पटल पर.., हिन्दू का हित चिन्तक  कौन ...? हिन्दू का संरक्षक कौन ...? हिन्दू का शुभचिन्तक  कौन..?    भारत में केंद्र सरकार को इसकी चिता करनी चाहिए .., यह सरकार ८५ प्रतिशत हिदू वोटों  से चुनी गई है...!  मगर यह कांग्रेस की सरकार है  सो.., जोर देकर  तो वह बात करेगी ही नहीं ..,वैसे भी अब यह सरकार सोनिया गांधी के रहते ईसाई हितों व षड्यंत्रों से बाहर नहीं निकाल सकती...!  इ