पोस्ट

नवंबर 28, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

खारिज : राहुल गांधी

- अरविन्द सीसोदिया  बिहार में जो भी परिणाम आये उनके कई अर्थ हैं .., पहला तो यह कांग्रेस के द्वारा जो राहुल को देश  पर थोपने की साजिश  हो रही थी  वह जनता ने नकार दी ...! साथ ही यह भी सन्देश दे दिया की केंद्र के पैसे की बात अस्वीकार्य है ..., कांग्रेस इस देश के लोगों को शायद कम बुद्धी समझती है .., अन्यथा केंद्र  के पास पैसा जा कहाँ से रहा है ...!! सोनिया जी भूल जातीं हैं कि एक एक पाई राज्यों में रहने वाले आम नागरिकों का है .., उनके द्वारा दिए जारहे टेक्स का है , उनके राज्य की सम्पत्ति का है , उनके संसाधनों को गिरवी रख आकर हंफ्स्ल किये जाने वाके उधार का है ...! एक भी पाई कांग्रेस नामक दल से नही आई है .., बिहार क्या किसी भी राज्य में किसी भी व्यक्ती का एक रुपया पर्सनल खाते से नहीं लगा है ...! चाहे योजना आयोग हो चाहे कोई अन्य केन्द्रीय योजना .., खर्च होने वाला धन इस देश के नागरिकों का है , उनके टैक्स और उन्हें गिरवी रख कर उठाये उधर से है ..! उनके उत्पादन और संसाधनों से है ..! यह कांग्रेस का झूठ बिहार में नहीं चला ..!    * बिहार को १७  मुख्य मंत्री देने वाली कांग्रेस दयनीय स्थिति में है ,