पोस्ट

दिसंबर 6, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

राम लला टाट में ....? राजनेता ठाठ में ...!!

इमेज
- अरविन्द सीसोदिया * केंद्र की सरकार यह अच्छी तरह समझले की राम लला टाट में रहें और वे ठाट बाट में रहे यह स्थिति यह देश अब सहन नहीं करेगा ..! * इतना  भीषण अपमान ना किसी देश में किसी ने भी अपने आराध्यों के प्रति सहन किया है ना ही यह भारत को ही सहन होगा ..! * सत्ता धारी यह ना भूलें कि बिहार चुनाव में दिल्ली की सरकार की घिघ्घी बना दी गई है ..! हिन्दू भी वोट बैंक है और वह यह पूरे देश में भी दौहरा  सकता है..!! अपमान जनक व्यवहार की अति हो चुकी है ! * अतः अब यह चिंता करो की राम लला किसा तरह से जल्द  से जल्द  एक गरिमा मय भव्य मंदिर में विराजमान हों ..!!  **** हिन्दुओं की मान्यता है कि राम का जन्म अयोध्या में जिस स्थान पर हुआ था और उनके जन्मस्थान पर एक भव्य मन्दिर विराजमान था | जिसे विदेशी मुगल आक्रमणकारी बाबर ने तुडवा कर  वहाँ एक नापाक मसजिद बना दी। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भारतीय जनता पार्टी की अगुवाई में इस स्थान को मुक्त करने एवं वहाँ एक नया मन्दिर बनाने के लिये एक लम्बा आन्दोलन हिन्दू समाज ने चलाया !... ६ दिसम्बर सन् १९९२ को मेरी मान्यता से एक न्यायालय के द्वारा जन उपेक्षा से उभरे आक