पोस्ट

मार्च 18, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

विकिलीक्स की जय हो ..!

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया विकिलीक्स  ने वह कमाल  कर दिखाया जो होना ही चाहिए था .., लाखों जेम्स बांड जो रहस्य नहीं खोल  सकते थे , वे रहस्य खुल  कर सामनें हैं ..,  विश्व राजनीति का मतलब मानवीय साम्राज्य  का नीतियों और सिद्धन्तो पर आधारित हो कर सत्यता पूर्ण न्याय और मानवता का परस्पर सहयोग हो ..! अमेरिका सहित तमाम संपन्न देशों ने राजनीति को छल , कपट और धोकेबाजी  का धंधा बना लिया है और उसके सामनें विवश विकासशील और अविकसित देश सिर्फ और सिर्फ हाथ जोड़े महज गिदगिड़ाहट  में हैं ...!  विकासशील देशों के लिए ये लाभ  देने हेतु प्रतिबद्ध हैं .., महज बाजार बना  कर विश्व को देखनें का अधर्म अमरीका के नेतृत्त्व में हो रहा है संयुक्त राष्ट्र संघ मात्र एक कठपुतली संस्था बन कर रह गई ..! इतनें सरे लीकेज सामनें आ चुके हैं कोई भी प्रतिक्रिया नहीं है .., एक सुदूर चुप्पी के अलावा...!          भारत के बारे  में जो खुलासे  सामनें हैं उससे स्पष्ट है कि कांग्रेस नें परोक्ष / अपरोक्ष अमरीका की गुलामी जैसी स्थिति तो देश की बनाई  है ..! अब धुधलके में यह दिख रहा है कि भारत सरकार  को क्या करना है यह अमरीका में तय हो रहा है ..!