पोस्ट

मई 21, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया के ख़ज़ाने में नक़ली नोट ...

इमेज
मेंने यह खबर फेसबुक पर पड़ी है ..यदि यह सही है तो अत्यंत गंभर बात है ....., इसकी जांच सर्वोच्च न्यायलय की देखरेख में होनी चाहिए ..... ----- एक जानकारी जो पूरे देश से छुपा ली गई________, अगस्त 2010 में सीबीआई की टीम ने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के वाल्ट में छापा मारा. सीबीआई के अधिकारियों का दिमाग़ उस समय सन्न रह गया, जब उन्हें पता चला कि रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया के ख़ज़ाने में नक़ली नोट हैं. रिज़र्व बैंक से मिले नक़ली नोट वही नोट थे, जिसे पाकिस्तान की खु़फिया एजेंसी नेपाल के रास्ते भारत भेज रही है. सवाल यह है कि भारत के रिजर्व बैंक में नक़ली नोट कहां से आए? क्या आईएसआई की पहुंच रिज़र्व बैंक की तिजोरी तक है या फिर कोई बहुत ही भयंकर साज़िश है, जो हिंदुस्तान की अर्थव्यवस्था को खोखला कर चुकी है. सीबीआई इस सनसनीखेज मामले की तहक़ीक़ात कर रही है. छह बैंक कर्मचारियों से सीबीआई ने पूछताछ भी की है. इतने महीने बीत जाने के बावजूद किसी को यह पता नहीं है कि जांच में क्या निकला? सीबीआई और वित्त मंत्रालय को देश को बताना चाहिए कि बैंक अधिकारियों ने जांच के दौरान क्या कहा? नक़ली नोटों के इस ख़तरनाक खेल पर

फिर जले आग में देश : जातीय जनगणना

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया    केंद्र सरकार ने जातीय जनगणना के आदेश देकर वह आग फिरसे लगादी है जो कभी मंडल आयोग के द्वारा प्रधान मंत्री वी पी सिंह के समय लगी गई थी |  अब यह होगा की जातीय जनगणना के आंकड़े आते ही मुलायम सिंह , लालू यादव , रामविलास पासवान देश में नये आरक्षण फार्मूले के नाम पर हुड़दंग करेंगे , चुनावी मुद्दों से भ्रष्टाचार , भुखमरी, स्विस बैंकों में जमा काला धन  और  महंगाई जैसे असली असली मुद्दे फिर से गायब हो जायेंगे और जातीय आरक्षण का नया मुद्दा सामनें आ जाएगा | देश भर में जनता आपस में मुर्गों की तरह लडेगी , राजनेता इस लडाई का आनंद उठाएंगे | कुल  मिला  कर  जातीय  जनगणना , जनता को आपस में मुर्गों की तरह लड़ने का खेल है ..!    ----- सागर जिले के बीना में भारत-ओमान रिफायनरी लिमिटेड के लोकार्पण समारोह में प्रधानमंत्री की मौजूदगी में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जातिगत जनगणना के फैसले पर सवाल उठाते हुए कहा , "जाति के आधार पर जनगणना हिन्दुस्तान में फिर से मत कराइए। महात्मा गांधी और पंडित जवाहर लाल नेहरू ने भी कहा था कि जातिगत भेदभाव ठीक नहीं है, सामाजिक

पाक - चीन गठजोड़ : सिर्फ बातों ही बातों से काम चला रही है भारत सरकार

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया       इन दिनों यूपीए २ कि कांग्रेस नेतृत्व भारत सरकार इतनी निकम्मी सरकार हो गई है  की वह अन्दर - बहार , दोनों तरफ पूरी तरह फैल है ! सिर्फ बातों ही बातों से काम चला रही है | अकर्मण्यता की यह स्थिति है कि वह चीन और पाकिस्तान से भी भयभीत है ! मनमोहन सिंह अफगानिस्तान में कहते हैं भारत, अमरीका जैसी कार्यवाही पाकिस्तान में आंतकीयों के खिलाफ नहीं कर सकता ..! यही हाल चीन के खिलाफ है वह भारतीय सीमा के अन्दर आकर पाकिस्तान के पक्ष में बहुत सारे निर्माण कर रहा है , भारत सरकार विरोध तक नहीं कर पा रही | यदि इतने निकम्मे नेता ही कुर्सियों  पर बैठे रहे तो देश का भविष्य अंधकार मय हो चुका  है| ========== समाचार .......        पाकिस्तान और चीन के बीच बढ़ते रक्षा संबंधों पर भारत ने गहरी चिंता जाहिर की है। भारत ने कहा है कि इस चुनौती का मुकाबला करने के लिए हमें अपनी क्षमता बढ़ानी होगी। तीनों सेनाओं के साझा कमांडर सम्मेलन को संबोधित करने के बाद रक्षा मंत्री ए.के.एंटनी ने कहा कि इस नई चुनौती का एक ही जवाब है क