पोस्ट

जून 18, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

23 जून : डा. श्यामाप्रसाद मुखर्जी बलिदान दिवस

इमेज
राष्ट्रहित पर पहला बलिदान - अरविन्द सिसोदिया नेहरू ज्यों ज्यों गरजेगा , जनसंघ त्यों त्यों बरसेगा | ( नेहरू का रोष जितना बढेगा ,जनसंघ उतना ही मजबूत होगा | और यही हुआ !! ) लाखों भारतवासियों  के प्रेरणा पुंज और पथ प्रदर्शक ,   डा. श्यामाप्रसाद मुखर्जी  महान शिक्षाविद, चिन्तक और  भारतीय जनसंघ  के संस्थापक थे, जो की भारतीय जनता पार्टी का प्रारंभिक नाम था  । भारतवर्ष की जनता उन्हें एक प्रखर राष्ट्रवादी के रूप में स्मरण करती है  । राष्ट्र सेवा की प्रतिव्धता में  उनकी मिसाल दी जाती है . एक प्रखर  राष्ट्र भक्त के रूप में, भारतीय इतिहास उन्हें सम्मान से स्वीकार करता है , उनका बलिदान स्वतंत्र भारत में राष्ट्रहित पर पहला बलिदान था , आज जो जम्मू और कश्मीर भारत का अंग हे वह उनके ही संघर्ष के कारण हे , उनके बलिदान के कारण हे .  भारतीय राजनीती में उन्होंने , एक जुझारू, कर्मठ, विचारक और चिंतक के रूप में, भारतवर्ष के करोड़ों  लोगों के मन में उनकी गहरी छबि अंकित है, वे एक निरभिमानी देशभक्त थे । बुद्धजीवियों और मनीषियों के वे आज भी आदर्श हैं  जब तक यह देश रहेगा तब तक उन्हें सम्मान के साथ २३ जून को हमे