पोस्ट

जून 30, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

अमरत्व के नाथ : बाबा अमरनाथ

चित्र
 श्रीनगर |                बम-बम भोले और हर-हर महादेव के जयघोष के बीच बुधवार सुबह पवित्र गुफा में प्रथम पूजन के साथ ही 13,500 मीटर की ऊंचाई पर स्थित पवित्र गुफा अमरनाथ की वार्षिक तीर्थ यात्रा शुरू हो गई। पहले दिन शाम पांच बजे तक करीब 9700 यात्री बाबा के दर्शन कर चुके थे। पहले दिन बाबा अमरनाथ के दर्शन करने वालों में अमरनाथ श्राइन बोर्ड के अध्यक्ष और राज्यपाल एनएन वोहरा, राज्य की प्रथम महिला ऊषा वोहरा व बोर्ड के सीईओ आरके गोयल भी थे। गुफा में जब वैदिक मंत्रोच्चारण व शंख की आवाज गूंजी तो पूरा वातावरण भक्तिमय हो उठा। मौसम की खराबी से अधिक यात्रियों को गुफा की ओर रवाना कर देने से बालटाल मार्ग पर कई यात्री फंस गए। आधार शिविर बालटाल पहुंचे कुछ श्रद्धालुओं ने बताया कि बराड़ी मल और संगम टाप के बीच सैकड़ों श्रद्धालु जिनमें बच्चे और बुजुर्ग शामिल हैं, मौसम खराब होने के कारण फंस गए हैं। खराब मौसम के कारण अमरनाथ यात्रा पर जा रहे वाहनों को ऊधमपुर व रामबन में रोक लिया गया। इस बीच, बालटाल से 19 हजार 498 और नुनवन से करीब 13 हजार 652 श्रद्धालुओं का पहला जत्था सुबह पवित्र गुफा के लिए रवाना ह

भयग्रस्त प्रधानमंत्री

चित्र
सच यह है की देश  के सबालों से यह प्रधानमंत्री डरा हुआ है |  - अरविन्द सिसोदिया  बहुत दिनों बाद एकबार फिर प्रधानमंत्री सच और झूठ मिला कर बोले , मानलो भई में ही प्रधानमंत्री हूँ ..! यह सच है कि मनमोहन सिंह जी को प्रधानमंत्री सोनिया गांधी ने ही बनाया है ! बस  एक बार सिंह सहाब लोकसभा चुनाव लड़े और हार गए , इसके बाद कभी भी लोकसभा चुनाव हार के डर से नहीं लड़े !! राज्य सभा से ही संसद में पहुचते हैं !! प्रधानमंत्री नरसिंह राव के कार्यकाल में वित्तमंत्री रहते हुए उन्होंने सोनिया जी कि बहुत सेवा की थी , उसकी मेवा उन्हें प्रधानमंत्री पद के रूप में मिली ! बहुमत तो सोनिया जी के पास है मनमोहन सिंह पर तो है नहीं और यह भी सच है कि जब तक सोनिया जी कि कृपा है तब तक ही वे प्रधानमंत्री हैं !! वे एक उच्चस्तरीय नौकरशाह ही तो रहे हैं , कभी राजनीती में थे भी नहीं सो वे इतने समय प्रधानमंत्री रह कर भी अपनी राजनैतिक जमीन तैयार नहीं कर सके ! सोनियाजी जब चाहें और कहें मूषक भवः तभी ये भूतपूर्व हो जायेंगे !! राजनैतिक स्वाभिमान या स्वभाव कभी था ही नहीं जो अब आये !   अब देखिये खजाना लुट रहा है तो लुट ही रहा है ...