पोस्ट

जुलाई 4, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

अब काले धन के मामले में,सर्वोच्च न्यायलय को हस्तक्षेप करना पढ़ा है

- अरविन्द सिसोदिया    एक बार फिर से सर्वोच्च न्यायलय को हस्तक्षेप करना पढ़ा है ..,  सुप्रीम कोर्ट ने काले धन के मुद्दे पर उचित कार्रवाई न करने के लिए केंद्र सरकार को कड़ी फटकार लगाते हुए एक पूर्व जज की अध्यक्षता में एसआईटी का गठन कर दिया है। ये एसआईटी कालेधन को लेकर सरकार की बनाई उच्चस्तरीय जांच कमेटी के कामकाज की निगरानी करेगी।  २ जी के बाद यह भी महत्वपूर्ण निर्णय है ...! राष्ट्रहित के लिए  सर्वोच्च न्यायलय को बधाई !!! अब काले धन के मामले में  नई दिल्ली।  सुप्रीम कोर्ट ने काले धन के मुद्दे पर उचित कार्रवाई न करने के लिए केंद्र सरकार को कड़ी फटकार लगाते हुए एक पूर्व जज की अध्यक्षता में एसआईटी का गठन कर दिया है। ये एसआईटी कालेधन को लेकर सरकार की बनाई उच्चस्तरीय जांच कमेटी के कामकाज की निगरानी करेगी। कोर्ट ने कहा कि काले धन का मामला देश की सुरक्षा से जुड़ा हुआ है, लेकिन सरकार ने तभी कोई कार्रवाई की जब कोर्ट ने आदेश दिया। हालांकि काले धन की जांच के लिए सरकार ने एक उच्चस्तरीय कमेटी बनाई है, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इसे नाकाफी समझा। सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज जस्टिस बी.पी. जीवनरेड्डी की अध्यक्

पद्धमनाभ मंदिर : खजानें के दुरुपयोग की कोई साजिश बर्दास्त नहीं होगी

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया          केरल  के पद्धमनाभ  मंदिर के खजानें में  मिली दौलत , हिन्दू भगवान की विश्वसनीयता को भी दर्शाती है और उसके प्रति हिन्दुओं की श्रद्धा को भी दर्शाती है ! यह दौलत भले ही सर्वोच्च न्यायलय के निर्देश पर भगवान के खजानें से बहार लाई गई हो ! मगर इस पर सरकार का हक़ नहीं है , इसे संभाल कर रखा जाये और हिन्दुओं के मंदिरों और हिन्दू समाज के धार्मिक उत्थान  के लिए काम में ही लाया जाये !  इस खजानें को खोलनें के निर्देश के पीछे भले ही कोई ताकत रहीं हों मगर इसके उपयोग और दुरुपयोग की कोई साजिश बर्दास्त नहीं होगी !