पोस्ट

जुलाई 19, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

सिर्फ धनाढय वर्ग के लिये ही हे उच्च शिक्षा... ??? डरावने कट-ऑफ !!!!!

इमेज
- अरविन्द सीसौदिया  अब यह समझ नहीं आ रहा है कि जो बच्चें कम अंक पर उत्तीर्ण हुये हैं, वे क्या कर सकेंगे....! क्या उनकी अब तक की पढाई बेकार हो गई है। प्रथम श्रैणी के बावजूद इच्छित विषय और कालेज में प्रवेश नहीं हो सकता । अधिक अंक,अब सम्पन्न वर्ग का लगभग स्वामित्व है, कोचिंग के बल पर धनाढय वर्ग के बच्चे ही अधिक अंक पाते है। मुझे इस बत की अधिक चिन्ता है कि आम व्यक्ति और गरीव वर्ग को जो उच्च शिक्षा के कमाई वाले क्षैत्र से तो लगभग बाहर कर ही दिया गया है। क्या देश सिर्फ धनाढय वर्ग के लिये ही हे ????????  यूं भी बहुत से विषय 50 प्रतिशत अंक से कम पर प्रवेश योग्य ही नहीं रहते। यह जरूरी है कि जो भी पढना चाहते हैं उन्हे शिक्षा का इंतजाम पूर्व से ही होना चाहिये। प्रतिवर्ष सीटें व सेक्शन बढाने के झंझट नहीं होना चाहिये, इसके लिये अनिवार्य व्यवस्था होनी चाहिये। स्वतः सीटों का व सेक्सनों को बढाना चाहिये। --------- कोटा। शहर के राजकीय महाविद्यालयों में बढ़ी हुई सीटों की वरीयता सूची का प्रकाशन मंगलवार को कर दिया गया। राजकीय महाविद्यालय, जेडीबी कॉलेज और कॉमर्स कॉलेज में जारी सूचियों में एक बार फ

शीला दीक्षित ने चुनावों में फायदा उठाने के लिए कहा कि 60 हजार फ्लैट बनकर तैयार हैं

इमेज
- अरविन्द सीसौदिया     चुनाव आयोग और न्यायपालिका को मिल कर इस तरह के कानून बनाने चाहिये कि सभी राजनैतिक दलों को चुनाव की पूर्व तैयारियों और चुनाव के दौरान क्या क्या कहने और करने का अधिकार है। दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने 60 हजार सस्ते मकान तैयार हैं और उन्हे बांटने के लिये लाखों फार्म नागरिकों से भरवाये गये। लालच देकर ठगी तो की ही गई। येशा ही तमिलनाडु में होता है कोई टीवी दे रहा है,पंखा दे रहा है,मिक्सी दे रहा है, सोने के गहने दे रहा है। कोई 2 रूप्ये किलो अनाज दे रहा है। आप नागरिक को सक्षम बनाओ उसकी आर्थिक आय बढाओ। यदि शराब पिलाना मना है।नगद नोट बांटना मना है। तो लालच देना भी मना होना चाहिये। जबकि यह सब खुले आम हो रहा है। अब यह आचार संहिता में आ जाना चाहिये कि प्रलोभन देनें की बात,नहीं कही जा सकेगी। विकास की बात भी वही कही जाये जिसे करने की वास्तविक क्षमता हो। चुनाव कानून और नियमों में व्यापक सुधार की जरूरत है।प्रलोभन देश के वास्तविक जन उत्थान से धो खा  है। नागरिक से भी धो खा   है। ------- चुनावों में फायदा उठाने के लिए  कहा गया कि 60 हजार फ्लैट बनकर तैयार हैं और साल 2012