पोस्ट

जुलाई 21, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

झूठ कौन बोल रहा है...प्रधानमंत्री,विकिलीक्स या गिरिफ्तार आरोपी....?

इमेज
- अरविन्द सीसौदिया अब लगभग यह स्पष्ट हो चुका है कि नोट के बदले वोट में मामले में कांग्रेस और सपा नेता अमरसिंह ने सांसदों को खरीदा था। दिल्ली पुलिस ने न्यायालय की लताड के बाद कार्यवाही प्रारम्भ की दो गिरिफतारी हुईं हैं। मामला प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह और यूपीए 1 सरकार के विरूद्ध है। लगता नहीं है कि तह तक जांच जायेगी। जांच तह तक जानी होती तो इसका स्टिंग आपरेशन करने वाले चैनल से पूछताछ में सबसे ज्यादा जानकारी हांसिल हो सकती थी। खैर सवाल यह है कि जब विकिलीक्स का खुलासा आया था कि नोट के बदले वोट का प्रयास हुआ था। तब प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह ने इंकार किया था।  अब फिर से  पीएम के करीबी और कांग्रेस के नेता  अहमद पटेल का नाम आया है। अब प्रधानमंत्री क्या कहेंगे।    ------------------- दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच की टीम नई दिल्ली.   सुप्रीम कोर्ट के आदेश की रोशनी में नोट के बदले वोट मामले की जांच कर रही दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच की टीम ने सुहैल हिंदुस्तानी को गिरफ्तार कर लिया। भारतीय जनता युवा मोर्चा के कार्यकर्ता रह चुके सुहैल हिंदुस्तानी की इस डील में भूमिका थी। उसकी गिरफ्तारी के बाद अब कैश