पोस्ट

अगस्त 16, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

अन्ना की रिहाई में भी राजनीती ...

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया  अन्ना हजारे की गलत तरीके से गिरफतारी और उन्हे छोडनें में राहुल  गांध को श्रेय देनें के पीछे साजिश यह है कि भारतीय राजनेताओं को  अयोग्य साबित किया जाये और इटालियन माता के राजकुमार को  योग्य साबित किया जाये।      नई दिल्ली.  दिल्ली पुलिस ने अन्ना हजारे का रिलीज़ वारंट तिहाड़ जेल भेज दिया है। सूत्रों के अनुसार अन्ना अबसे थोड़ी देर में जेल से रिहा हो सकते हैं। सूत्रों के मुताबिक रिहाई के बाद उन्हें पुणे ले जाया जा सकता है। इधर किरण बेदी ने कहा है कि अन्ना ने रिहाई के लिए कोई शर्त नहीं रखी है। अन्ना को बिना शर्त छोड़ा जा रहा है। अन्ना की रिहाई पर प्रशांत भूषण ने प्रतिक्रिया देते हुए  कहा कि देर आए दुरुस्त आए। सूत्र के अनुसार टीम अन्ना रिहाई को लेकर थोड़ी नर्म पड़ी है जिसके बाद सरकार ने उन्हें रिहा करने का फैसला लिया है।  टीम अन्ना के सदस्यों का कहना है कि रिहा होने के बाद अन्ना सीधे जेपी पार्क जाएंगें। मगर सूत्रों के अनुसार दिल्ली पुलिस उन्हें सीधे एअरपोर्ट ले जाने का प्रयास कर रही है। उनके टिकट का भी बंदोबस्त किया जा रहा है। गांधीवादी सामाजिक कार्यकर्त