पोस्ट

अक्तूबर 19, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आत्मा में खंजर की तरह उतरती है मंहगाई..

चित्र
- अरविन्द  सिसोदिया , कोटा , राजस्थान - 09414180151  आत्मा में खंजर की तरह घाव करती उतरती है मंहगाई... आदमी को जीते जी मार देती है मंहगाई..... मन मरता आशायें मरतीं,घर परिवार में होती मुरझााई.., दर्द यह नहीं है कि बडती ही जा रही है मंहगाई..., दर्द यह है कि.................................. सरकार खुद खडी हो कर, बडबा रही है मंहगााई...!!!   भयानक मंहगाई.... दीपावली पर श्रीमति सोनिया गांधी,मनमोहनसिंह और मोंटेकसिंह को आम व्यक्ति की तरह बाजार में जाना चाहिये, एक किलो मावा की मिठाई और आध किलो नमकीन, कुछ फटाके और कुछ मोमबत्ती खरीदनी चाहिये ताकि इन्हे बाजार के भाव भी पता चल सकें...कि जनता कि किस तरह लुटाई हो रही है। यह मंहगााई का महा भ्रष्टाचार कांग्रेस सोनिया गांधी और मनमोहनसिंह को अब हर चुनाव में तीसरा नम्बर और जमानत जप्ति का आईना दिखायेगी। पेट की भूखने साफ कर दिया कांग्रेस को ..... रोज रोज बडती मंहगाई...कभी डीजल..... कभी पैट्रोल.....कभी रसोई गैस..... और हाल ही में डीएपी खाद में बढाई भयंकर मंहगाई...निहत्थी जनता को एक ही अवसर वोट का....सौ सुनार की एक लुहार की....जनता अपना रंग द