पोस्ट

नवंबर 30, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

एफ डी आई का प्रबल विरोध ,व्यापारियों ने भीख मांगने का पूर्व - अभ्यास.

देश के साथ सिर्फ शत्रुता...... आर्थिक उदारीकरण के नाम पर, सम्पन्न और अति सम्पन्न देशों के उद्योगपतियों और व्यापारियों को भारत बुला कर भारत के नागरिकों के उद्योग - धंधो , खेत - खलिहानों और रोजगार के अवसरों को छिनवा देने का कार्य देश के साथ सिर्फ और सिर्फ शत्रुता के अलावा और क्या कहा जा सकती है। व्यापारियों ने भीख मांगने का पूर्व - अभ्यास. .... आज भारत के एक शहर में व्यापारियों ने कपडे उतार कर भीख मांगी और खुदरा क्षैत्र में एफ डी आई का प्रबल विरोध करते हुये कहा कांग्रेस और सोनिया गांधी की यह केन्द्र सरकार पूरे देश को भिखारी बनाने पर तुली है। आखिर आगे भीख मांगनी ही पढेगी,यह उसका पूर्व - अभ्यास है। ------ रिटेल कंपनियां पहुंचाएंगी चार लाख को चोट http://www.amarujala.com/state/Uttar-pradesh/43189-1.html इलाहाबाद। रिटेल कारोबार में विदेशी कंपनियों की आहट जिले के कारोबारियों और उनसे जुड़े लोगों को डराने लगी है। वजह, सरकार ने तय किया है कि दस लाख से ज्यादा आबादी वाले शहरों में बहुराष्ट्रीय कंपनियां मल्टी ब्रांड और सिंगल ब्रांड स्टोर खोल सकेंगी। कंपनियों के स्टोर से नफा-नुकसान को लेक