पोस्ट

दिसंबर 21, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

हडताल का कोई ओर तरीका हो.....

चित्र
- अरविन्द सिसोदिया  हडताल का कोई ओर तरीका हो..... राजस्थान में चिकित्सक हडताल पर हैं....शरीर को कष्टकारी रोगी भगवान भरोषे हैं...चिकित्सकों की मांग जायज और जरूरी हो सकती हैं। मगर उनके हडताल का कोई ओर तरीका होनो चाहिये...आम व्यक्ति को उनके कारण यदि कष्ट होता है तो वे आईपीसी के अंतर्गत अपराध के दोषी मानें जायें और कोई मरता है तो धारा 302 के तहत मुकदमा चले । किसी दूसरे को कष्ट देने का अधिकार किसी को नहीं दिया जा सकता , चिकित्सक पेसा पवित्र और चिकित्सकों को भगवान का दर्जा प्राप्त है। व्यापारी करण के इस दौर में नैतिकताये तो भले ही खूंटें पर टंग गई हों मगर अपराध तो अपराध है। राजस्थान में हड़ताल पर सरकारी डॉक्टर, मरीज हुए परेशान केन्द्र के समान वेतनमान और समयबद्ध पदोन्नति समेत अन्य मांगों को लेकर बुधवार से शुरू हुई चिकित्सकों की हडताल का राज्य में आशिंक असर पडा है। राजस्थान सरकार ने मंगलवार देर रात डाक्टरों की हडताल को गैर कानूनी घोषित कर रेस्मा लागू कर दिया जिसके बाद अधिकतर चिकित्सक अज्ञात वास पर चले गये हैं।      चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग सूत्रों के अनुसार राज्य के सरकारी चिकित्

प्रधानमंत्री की असंवेदनशीलता , मायावती ने प्रधानमंत्री को 118 पत्र

चित्र
- अरविन्द सिसोदिया  यदि ठीक तरीके से यह पता लगाया जाये की प्रधान मंत्री की कितने पात्र मिले और उनमें से कितने के जबाव दिए गए तो आंकड़ा चौंकानें वाला होगा..आम या खास का जबाव न भी जाये मगर मुख्यमंत्री को भी जबाव नहीं जाये ..यह समझ से परे हे..वह भी देश की सबसे बड़ी आबादी के प्रदेश वाले मुख्यमंत्री की... प्रधानमंत्री  की  असंवेदनशीलता  मायावती ने प्रधानमंत्री को लिखे 118 पत्र, जवाब मिला 23 का http://hindi.moneycontrol.com 07 दिसम्बर 2011 / वार्ता लखनऊ। उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती ने अपने पचास महीने के कार्यकाल में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को 118 पत्र लिखे, लेकिन उन्हें सिर्फ 23 का ही जवाब मिल सका। हालांकि केन्द्र सरकार और सुश्री मायावती के बीच पत्र युद्ध चलता रहा है और केन्द्रीय मंत्री राज्य सरकार पर विकास योजनाओं को ठीक से लागू नहीं करने का आरोप लगाते रहे हैं। राज्य सरकार की ओर से जवाब भी जाता रहा है। सुश्री मायावती भी लिखे पत्र का जवाब नहीं मिलने के साथ केन्द्र सरकार पर राज्य की उपेक्षा का आरोप लगाती रही हैं। दिनों का हिसाब लगाया जाय तो मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री का