पोस्ट

जनवरी 14, 2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

बाबा रामदेव पर स्याही फेंकने वाला कामरान सिद्दीकी

चित्र
बाबा रामदेव पर स्याही फेंकने वाला कामरान सिद्दीकी किसी कार्यक्रम में वरिष्ठ कांग्रेसी और दिल्ली की मुख्यमंत्री शिला दीक्षित जी से सम्मान प्राप्त कर रहा हे ....मगर दिग्विजय सिंह को यह पता चलेगा तो वे कहेंगे यह चित्र झूठा है ....एक बात और यह समझ से परे है की हर गलत कम का पहाये से ही पता दिग्विजय सिंह को क्यों रहता है..?? अब वे कह रहे हैं की स्याही तो RSS ने फिंकवाई है | खैर ...,  काले धन से किसका वास्ता है ...? यह पूरा भारत जनता है ..?? बाबा रामदेव को अपने मिशन में लगे रहन चाहिए, लोग उअनाका जितना रास्ता रोकेंगे ,कारवां उअताना और बढेगा..,  पूरा देश उनके साथ है .. ------- RSS ने फिंकवाई रामदेव पर काली स्याही :दिग्विजय 14 Jan 2012, http://navbharattimes.indiatimes.com नई दिल्ली।। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया कि योग गुरु रामदेव पर काली स्याही फेंके जाने की घटना आरएसएस की साजिश थी और इस हमले को अंजाम देने वाला व्यक्ति कांग्रेस विरोधी है तथा उसके बीजेपी से संबंध हैं।  सिंह ने कहा, 'मैंने बाबा रामदेव पर स्याही फेंकने वाले व्यक्ति को विडियो में देखा और ऐसा लगता है कि इसक

मकर संक्रांति पर्व 15 जनवरी को

चित्र
2016 में भी 15 जनवरी को होगी मकर संक्रान्ति  --------- बदल जाएगा समय,  14 को नहीं 15 को मनेगी संक्रांति! Dainik Bhaskar Network   13/01/२०१२ http://www.bhaskar.com इंदौर। मकर संक्रांति और 14 जनवरी को एक-दूसरे का पर्याय माना जाता है। आमजन को यह मालूम है कि दीपावली, होली सहित कई पर्व की तारीख तय नहीं होती लेकिन मकर संक्रांति 14 जनवरी को ही मनाई जाती है। इस बार यह पर्व 15 जनवरी को मनाया जाएगा। ऐसा क्यों? वह इसलिए क्योंकि सूर्य का धनु से मकर राशि में प्रवेश 14 को मध्यरात्रि के बाद होगा। पंडितों की मानें तो सन् 2047 के बाद ज्यादातर 15 जनवरी को ही मकर संक्रांति आएगी। अधिकमास, क्षय मास के कारण कई बार 15 जनवरी को संक्रांति मनाई जाएगी। इससे पहले सन् 1900 से 1965 के बीच 25 बार मकर संक्रांति 13 जनवरी को मनाई गई। उससे भी पहले यह पर्व कभी 12 को तो कभी 13 जनवरी को मनाया जाता था। पं. लोकेश जागीरदार (खरगोन) के अनुसार स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 को हुआ था। उनकी कुंडली में सूर्य मकर राशि में था यानी उस समय 12 जनवरी को मकर संक्रांति थी। 20वीं सदी में संक्रांति 13-14 को, वर्तमान में

एसिड अटैक : बाबा रामदेव को डराया जा रहा है....

चित्र
- अरविन्द सिसोदिया  सच यह है की बाबा रामदेव जिस कालेधन के विरुद्ध अभियान चला रहे हें, वह बड़े राजनेताओं , बड़े उद्योगपतियों और व्यापारियों , बड़े प्रशासनिक अधिकारीयों , ड्रग माफियाओं , तस्करों और आतंकवादियों ...का है ..! और इतना तो तय है कि  बाबा रामदेव पर आक्रमण करने वाला भी इनके ही फेवर में काम कर रहा है ..मतलब कि बाबा रामदेव को भी डराया जा रहा है....डराने वाला तत्व चाहे आक्रमण करी कामरान हो या कोई सरकारी तंत्र............... इसी लिए बाबा नें इशारों इशारों में कहा है... बाबा रामदेव ने इस मामले में प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि अभी शुरुआती तौर पर यह साजिश नज़र आ रही है। बाबा रामदेव ने कांग्रेस पर इशारे-इशारे में निशाना साधते हुए कहा, 'अल्पसंख्यक समाज के एक व्यक्ति को तैयार कर एक भगवाधारी पर स्याही फिंकवाई गई है। सांप्रदायिक दंगे करवाने की साजिश है। मेरे कार्यकर्ता भी अल्पसंख्यक हैं। ---------- पुलिस को बताकर  बाबा रामदेव के पास गया था कामरान!  dainikbhaskar.com  14/01/२०१२ http://www.bhaskar.com नई दिल्‍ली. बाबा रामदेव पर स्याही फेंकने वाला कामरान सिद्दिकी शनिवार की सु