पोस्ट

मार्च 13, 2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

भारतीय काल गणना सृष्टि की सम्पूर्ण गति, लय एवं प्रभाव का महाविज्ञान है - नरूका

इमेज
प्रबुद्धजन विचार गोष्ठी भारतीय काल गणना सृष्टि की सम्पूर्ण गति, लय एवं प्रभाव का महाविज्ञान है - नरूका कोटा 13 मार्च। नववर्ष उत्सव आयोजन समिति कोटा महानगर के तत्वाधान में मंगलवार को गुजराती समाज भवन में आयोजित ’’ भारतीय नववर्ष का वैज्ञानिक एवं सांस्कृतिक महत्व ’’ विषय पर आयोजित प्रबुद्धजन विचार गोष्ठी को सम्बोद्धित करते हुये मुख्य वक्ता प्रध्याापक एवं चिन्तक नन्द सिंह नरूका ने कहा ‘‘ भारतीय पंचाग की काल गणना और उसमें निहित ग्रह - नक्षत्रीय प्रभावों का समाज में व्यापक प्रभाव है। और ‘‘भारतीय नववर्ष सम्बत्सर पूरी तरह वैज्ञानिक आधारों और अनुभवों की आधारशीला पर आधारित होकर सृष्टि के विकास क्रम एवं निरन्तर प्रभाव का महान् अनुसंधान है। उन्होने कहा ‘‘ एक समय भारत ज्ञान विज्ञान में सर्वोच्च था और हमारे पूर्वजों ने जीवन पद्धति से लेकर गतिशीलता तक गम्भीर अध्ययन किये। और उन्होने लिपिवद्ध किया तथा समाज में इस तरह समाविष्ट कर दिया कि हम आज भी उस ज्ञान विज्ञान का लाभ उठा रहे है। वह आज भी हमारे जीवन के शुभ अवसरो को मार्गदर्शित करते है। नरूका ने कहा ‘‘ हमारे ज्ञान -विज्ञान और इतिहास का बहुत बडा ह

श्री गिरिराज जी शास्त्री (दादा भाई) : जीवन परिचय

इमेज
संघ अभिलेखागार, जयपुर प्रान्त श्री गिरिराज जी शास्त्री (दादा भाई) जीवन परिचय श्री गिरिराज जी शास्त्री (दादा भाई) का मूल जन्म स्थान कांमा, जिला-भरतपुर है। आपके पूजनीय पिताजी स्वर्गीय आनन्दीनारायण जी आचार्य थे। आपका जन्म 9 सितम्बर, मंगलवार-1919 को गणेश विसर्जन, अनन्त चतुदर्शी को हुआ था। अध्ययन आपने 6 वीं तक आंग्ल विद्या में अध्ययन, प्रवेशिका, साहित्य उपाध्याय, शास्त्री, अंग्रेजी में एक विषय में इन्टरमीजिएट की परीक्षा दी। वेद में भी यजुर्वेद की परीक्षा उतीर्ण की। संघ से सम्पर्क रथ खाना विद्यालय, जयपुर में अध्यापक थे। नथमल जी के कटले में कभी-2 संघ की शाखा लगती थी। उसमें दादा भाई का जाना होता रहता था। सन् 1942 में श्री शिवकुमार जी (बीएस.सीके छात्र) के कहने पर शाखा में जाना प्रारम्भ किया। अजमेर से श्री रामेश्वर जी शर्मा (मूल निवासी-किशनगढ़ बास, जिला-अलवर) अपनी नानी के यहाँ अजमेर में रहते थे। 10 वीं की परीक्षा देकर 1 वर्ष के लिए विस्तारक बनकर जयपुर में आये थे। उन्होने आते ही नथमल जी के कटले में नियमित शाखा शुरू कर दी। दादा भाई ने उसी शाखा में जाना शुरू कर दिया और जो जिम्नास्

विजय बहुगुणा,कांग्रेस के सिर्फ 10 विधायक,22 विधायक नदारद रहे..

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया  कुल मिला कर एक बार फिर से सामने आगया कांग्रेस ने वास्तविक योग्यता को दफना कर चमचा वाद को चुना ..यही वह बिंदु हे जिसके कारण देश पर राज करने वाली कांग्रेस मात्र कुछ राज्यों में सिमट गई और १९८४ के बाद से आज तक हुए लोकसभा चुनावों में पूर्ण बहुमत में नहीं आई...कांग्रेस से बहार होकर सरकारें बनाने वाले नेताओं की एक लंम्बी श्रंखला है ...कांग्रेस पहले एक वंसा की और फिर चमचावाद की पार्टी के रमें उभरी है  क्या बहुगुणा की सरकार अल्पमत में है?  dainikbhaskar.com 13/03/12   http://www.bhaskar.com/article             नई दिल्ली.  उत्तराखंड के मुख्यमंत्री के तौर पर विजय बहुगुणा ने देहरादून के परेड ग्राउंड में मंगलवार शाम को शपथ ले ली। राज्यपाल मारग्रेट अल्वा ने उन्हें शपथ दिलाई। लेकिन इस दौरान कांग्रेस के बीच फूट साफ नज़र आई। शपथ ग्रहण समारोह में कई कुर्सियां खाली देखी गईं और कांग्रेस के सिर्फ 10 विधायक ही समारोह के दौरान मौजूद रहे। उत्तराखंड विधानसभा में कांग्रेस के 32 विधायक हैं। शपथ ग्रहण समारोह में कांग्रेस के 22 विधायक नदारद रहे। बताया जा रहा है कि देहरादून में जब शपथ ग्र

उत्तरा खंड में राजनैतिक धोखाधड़ी

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया  उत्तरा खंड में विधान सभा चुनावों में जिन लोगों ने मेहनत की ..उन्हें कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने ठेंगा दिखाते हुए राहुल की करीबी रीता बहुगुणा के भाई विजय बहुगुणा को मुख्यमंत्री घोषित कर दिया है । जब की मुख्यमन्त्र पद के लिए स्वाभाविक दावेदारी हरीश रावत की बनती थी जिन्होनें विधानसभा चुनाव का नेतृत्व  किया है । उनके साथ यह राजनैतिक धोखाधड़ी  है । सांसद विजय बहुगुणा  उत्तराखंड में शुरू हो गया विजय बहुगुणा का विरोध Tue, 13 Mar २०१२ लिंक  http://www.jagran.com/news/national-9006531.html  नई दिल्ली। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पद के नाम पर सभी अटकलों को पीछे छोड़ते हुए पार्टी हाईकमान ने विजय बहुगुणा के नाम पर मुहर लगा दी। लेकिन इस फैसले के बाद ही पार्टी में बगावत के स्वर भी फूटने लगे हैं। विजय बहुगुणा के नाम का खुलासा होने के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हरीश रावत के सर्मथकों में नाराजगी है। सोमवार देर रात रावत के समर्थकों ने एक मीटिंग कर आलाकमान के फैसले पर विरोध जताया। कांग्रेस आलाकामान की ओर से सोमवार को टिहरी से सांसद विजय बहुगुणा को उत्तराखंड का अगला मु