पोस्ट

अप्रैल 4, 2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

6 अप्रैल: भाजपा का जन्म दिवस,शून्य से शिखर तक : भाजपा

इमेज
6 अप्रैल: भाजपा का जन्म दिवस शून्य से शिखर तक: भाजपा              - अरविन्द सीसौदिया भाजपा ने भारतीय जनसंघ के नाम से 1951 में, जब अपना सफर प्रारम्भ किया था,तब कोई भी राजनैतिक विश्लेषक यह उम्मीद नहीं कर सकता था कि यह पार्टी कभी अपना प्रधानमंत्री,उप प्रधानमंत्री और उपराष्ट्रपति बना लेगी, राष्ट्रपति और लोकसभा के अध्यक्ष इस दल के सहयोग से बनेंगे। इसके कई-कई राज्यपाल, मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री तथा नेता प्रतिपक्ष होंगे।  कई-कई जिला प्रमुख और महापौर होंगें,हजारों की संख्या में स्थानीय शासन तथा पंचायती राज में इस दल के जनप्रतिनिधि होंगे। तब कोई यह भी नहीं सोच सकता था , कि इस दल में काम कर रहे नेताओं के नाम पर बस्तियां बस जायेंगीं,चौराहों पर मूर्तियां लग जायेगीं,आयोजनों के स्थान इनके नाम पर होंगें,इनकी लिखी पुस्तकें बिकेगीं और उन पर शोध प्रबंध होंगें । मगर यह सब हुआ ,क्योंकि इस दल के पास राष्ट्रहित की विचारधारा का शिक्षण था,देश के लिये क्या सही है,यह सिखाने वाली राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ का मार्गदर्शन तथा आशीर्वाद था। उन्हे तब यह उम्मीद भी नहीं थी कि यह पार्टी कभी कोई राजनैतिक द