पोस्ट

मई 19, 2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

चंदन है इस देश की माटी तपोभूमि हर ग्राम है

इमेज
चंदन है इस देश की माटी तपोभूमि हर ग्राम है हर बाला देवी की प्रतिमा बच्चा बच्चा राम है || ध्रु || हर शरीर मंदिर सा पावन हर मानव उपकारी है जहॉं सिंह बन गये खिलौने गाय जहॉं मॉं प्यारी है जहॉं सवेरा शंख बजाता लोरी गाती शाम है || 1 || जहॉं कर्म से भाग्य बदलता श्रम निष्ठा कल्याणी है त्याग और तप की गाथाऍं गाती कवि की वाणी है ज्ञान जहॉं का गंगाजल सा निर्मल है अविराम है || 2 || जिस के सैनिक समरभूमि मे गाया करते गीता है जहॉं खेत मे हल के नीचे खेला करती सीता है जीवन का आदर्श जहॉं पर परमेश्वर का धाम है || 3 || chandan hai is desh kee maaTee, tapo bhoomi har graam hai har baalaa devee kee pratimaa, bacchaa bacchaa raam hai har shareer mandir saa paavan, har maanav upkaari hai jahaan siňha ban gaye khilaune, gaay jahaaň maa pyaari hai jahaaň savera shankh bajaataa, loree gaatee shaam hai jahaaň karma se bhaagya badaltaa shrama nishThaa kalyaaNee hai tyaag aur tap kee gaathaayeň, gaatee kavi kee vaanee hai gnyaan jahaaň kaa gangaa jal saa, nirmal hai aviraam hai jis

अनाज का रिकार्ड उत्पादन और दूसरी ओर भूखे लोगों की तेजी से बढ़ती कतार

इमेज
भूखे देश से अनाज का निर्यात ।। देविंदर शर्मा ।। (कृषि मामलों के विशेषज्ञ) कोई और देश यहां भूख मिटाने नहीं आयेगा. संविधान में भी कहा गया है कि लोगों की भूख मिटाना सरकार का दायित्व है. ऐसे में भूखे लोगों की उपेक्षा कर अनाज का निर्यात अपराध ही है. देश में बंपर फसल को देखते हुए अनुमान है कि आगामी एक जून तक गेहूं और धान का भंडार करीब 7.5 करोड़ टन का हो जायेगा. दूसरी ओर देश में 32 करोड़ लोग आज भी भूखे सोने को मजबूर हैं. करीब 50 फीसदी बच्चे कुपोषण के शिकार हैं. एक ओर देश में अनाज का रिकार्ड उत्पादन और दूसरी ओर भूखे लोगों की तेजी से बढ़ती कतार, यह दर्शाता है कि हम भूख से लड़ने के लिए कितने कम तैयार हैं. अफसोस की बात यह है कि जिस वक्त दुनिया के सबसे ज्यादा भूखे भारत में हैं, उस वक्त भी देश 70 लाख टन धान निर्यात करने पर विचार कर रहा है. गेहूं के निर्यात पर से भी प्रतिबंध हटाने की पुरजोर कोशिशें हो रही हैं. यह स्थिति केवल गेहूं और धान तक ही सीमित नहीं है. भारत दूध का सबसे बड़ा उत्पादक है. बावजूद इसके देश में प्रति व्यक्ति दूध की खपत साल दर साल घटती जा रही है. कारण यह है कि दूध का