पोस्ट

नवंबर 11, 2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

‘धनतेरस’ : पहला सुख निरोगी काया

चित्र
भारतीय संस्कृति पूरी तरह वैज्ञानिक व व्यवहारिक है, पहला धन निरोगी काया यानिकी स्वस्थ शरीर ही है। इसीलिये धन के पर्व दीपावली का प्रारम्भ धन तेरह यानी कि धनवंतरी के जन्मदिवस से है।   09 नवम्बर 2012 / एजेंसियां http://hindi.in.com/latest-news पंचांग के अनुसार हर साल कार्तिक कृष्ण की त्रयोदशी के दिन धन्वन्तरि त्रयोदशी मनायी जाती है। जिसे आम बोलचाल में ‘धनतेरस’ कहा जाता है। यह मूलतः धन्वन्तरि जयंती का पर्व है और आयुर्वेद के जनक धन्वन्तरि के जन्म दिवस के रूप में मनाया जाता है। धनतेरस के दिन नए बर्तन या सोना-चांदी खरीदने की परम्परा है। इस पर्व पर बर्तन खरीदने की शुरआत कब और कैसे हुई, इसका कोई निश्चित प्रमाण तो नहीं है लेकिन ऐसा माना जाता है कि जन्म के समय धन्वन्तरि के हाथों में अमृत कलश था। यही कारण होगा कि लोग इस दिन बर्तन खरीदना शुभ मानते हैं। आने वाली पीढ़ियां अपनी परम्परा को अच्छी तरह समझ सकें, इसके लिए भारतीय संस्कृति के हर पर्व से जुड़ी कोई न कोई लोककथा अवश्य है। दीपावली से पहले मनाए जाने वाले धनतेरस पर्व से  भी जुड़ी एक लोककथा है, जो कई युगों से कही-सुनी जा रही है। पौराणिक कथाओं