पोस्ट

दिसंबर 1, 2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आत्मविश्वास को बढाएं

चित्र
खुदी को कर बुलंद इतना.. May 16, 12:26 am - मीनाक्षी स्वामी http://in.jagran.yahoo.com/news   आत्मविश्वास के बगैर आप सफल जिंदगी की कल्पना भी नहीं कर सकतीं। सांसें लेना और छोड़ना ही जिंदगी नहीं है। जिंदगी का आशय है आत्मविश्वास के साथ सम्मानपूर्वक अपने किसी सकारात्मक मिशन और लक्ष्य को हासिल करना, लेकिन हर तस्वीर के दो पहलू होते हैं। आत्मविश्वास के बारे में भी यही बात लागू होती है। आत्मविश्वास के बारे में चर्चा करना आसान है, पर खुद को वास्तविक रूप में आत्मविश्वासी बनाना सहज बात नहीं है। मशहूर मनोवैज्ञानिक एब्राहम मैसलो का कहना था कि अक्सर पुरुष और महिलाएं स्वयं की योग्यताओं को कमतर करकर आंकते है। यही कारण है कि उनमें आत्मविश्वास की कमी होती है। आत्मविश्वास की कमी का ही यह नतीजा होता है कि वह उन लक्ष्यों को प्राप्त नहीं कर पाते, जिन्हे दूसरे लोग हासिल कर लेते है। कुछ लोग तो ऐसे होते है कि आत्मविश्वास की कमी के कारण किसी कार्ययोजना पर प्रयास ही शुरू नहीं करते। मनोचिकित्सकों की राय में चुनौतियां स्वीकारने से ही व्यक्ति के मन में आत्मविश्वास का जज्बा पैदा होता है। जब आप अपनी जिंदगी

रामलला 20 साल से टाट में....

चित्र
रामलला 20 साल से टाट में 2014 में शुरू हो जाएगा राम मंदिर का निर्माण -अशोक सिंहल तारीख: 12/1/2012 -Dev Nagar विश्व हिंदू परिषद के संरक्षक श्री अशोक सिंहल राम मंदिर के निर्माण को लेकर अति उत्साहित दिखे। उन्होंने कहा कि केंद्र में हिंदूवादी सरकार बनाने की जरूरत है। उससे अयोध् या में राम मंदिर के निर्माण का रास्ता प्रशस्त होगा। उन्होंने संकल्प के साथ कहा कि 2014 में मंदिर निर्माण शुरू हो जाएगा। उससे पहले पूरे देश में संतों के मार्गदर्शन में जनजागरण अभियान चलाया जाएगा। श्री सिंघल बीते दिनों एक दिन के प्रवास पर अयोध्या में थे। इसी दौरान दूरभाष पर बातचीत में उन्होंने कहा कि रामलला अब बहुत दिनों तक टाट की झोपड़ी (तिरपाल से ढंका अस्थाई मंदिर) में नहीं रह सकते। उनका मंदिर पूरी भव्यता के साथ बनेगा। 6 दिसंबर, 1992 को बाबरी ढांचा गिरा था, अब 20 साल बीत गए हैं। 20 साल की प्रतीक्षा के बाद अब मंदिर बनाने का समय आ गया है। उन्होंने ब्रह्मलीन देवरहा बाबा का स्मरण करते हुए कहा कि उनकी इच्छा को हर हाल में पूरा किया जाएगा। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि राम मंदिर न्यायालय का विषय नहीं है। उसकी परिधि