पोस्ट

दिसंबर 5, 2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ऍफ़ डी आई बनाम सी बी आई : मुलायम सिंह और मायावती पर फंदा

इमेज
  सी बी आई में फंसे मुलायम सिंह और मायावती पर  फंदा सरकार ने एक बार फिर से कसा और तमाम  ऍफ़ डी आई विरोधी बातों को करने  के बाद भी ये  , सी बी आई  के भय से लोकसभा से बहिष्कार कर कांग्रेस  को खुश  किया की सी बी आई को रोके रहो, आय से अधिक सम्पत्ति हमारे पास ही रहने दो ----- भले ही मुलायम सिंह और मायावती के दलों द्वारा दो मुखी पाखण्ड कर जनता के हितों से धोखा कर, बहिष्कार से सदन में ऍफ़ डी आई को बचवा दिया हो, मगर कांग्रेस की केन्द्र सरकार , पूरी तरह अपने अल्पमत के साथ बेनकाव हो चुकी है। उसे सदन में नैतिक बहूमत 272 प्राप्त नहीं है। यह स्पष्ट साबित हुआ है। इसलिये सरकार का कोई भी निर्णय नैतिक बहूमत का नहीं कहा जा सकेगा है। ऍफ़ डी  आई बनाम सी बी आई रिटेल में एफडीआई : माया-मुलायम के साथ से सरकार जीती NDTVIndia: 5 दिसम्बर 2012 नई दिल्ली: लोकसभा में रिटेल में एफडीआई पर विपक्ष का प्रस्ताव 218 के मुकाबले 253 मत से गिरा। सरकार को जीत के लिए 236 वोट चाहिए थे। कुल 471 मत डाले गए। 70 सांसद वोटिंग के दौरान उपस्थित नहीं रहे। इसी के साथ सरकार ने रिटेल में एफडीआई पर लोकसभा में जीत दर्ज की। माना य

सुषमा स्वराज : प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) का कड़ा विरोध

इमेज
‘FDI विकास की सीढ़ी नहीं, विनाश का गड्ढ़ा है’ 04 दिसम्बर 2012 hindi.in.com लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने मल्टीब्रांड खुदरा क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) की अनुमति के निर्णय का कड़ा विरोध करते हुए इसे किसानों और आम आदमी के हितों के खिलाफ करार दिया और सरकार से इसे देश हित में वापस लेने की पुरजोर मांग की। सुषमा स्वराज ने कहा कि जहां जहां खुदरा व्यापार में एफडीआई की अनुमति दी गयी है वहां छोटे व्यापारियों और किसानों को भारी नुकसान हुआ है। न्होंने कहा कि FDI विकास की सीढ़ी नहीं, विनाश का गड्ढ़ा है। सुषमा स्वराज ने कहा कि एफडीआई के आने से भारत में भी करोड़ों लोग बेरोजगार हो जाएंगे। भाजपा नेता ने अपने भाषण में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी पर निशाना साधा। उन्होंने प्रधानमंत्री से इस निर्णय पर पुनर्विचार करने का आग्रह करते हुए कहा कि इस प्रस्ताव से हम आपको हराना नहीं चाहते बल्कि मनाना चाहते हैं। पेश हैं लोकसभा में बहस के मुख्य अंश; * एफडीआई से बढ़ेगी बेरोजगारीः मुलायम सिंह * कितना भी तर्क दें लेकिन एफडीआई देशहित में नहीं हैः मुलायम सिंह * पै

केन्द्र की कांग्रेस सरकार अल्पमत में : मुलायम और मायावती धोकेबाज

इमेज
केन्द्र की कांग्रेस सरकार अल्पमत में केन्द्र सरकार ने सरकार चलाने का नैतिक अधिकार खोया - अरविन्द सीसौदिया कोटा 5 दिस्मबर। भाजपा जिला उपाध्यक्ष अरविन्द सीसौदिया ने लोकसभा में कांग्रेस की कथित जीत को भ्रामक बताते हुये कहा “ सरकार चलाने के लिये लोकसभा में सत्तारूढ़ दल को 272 की संख्या जरूरी है। किन्तु गुरूवार को हुये दो बार मतदान में स्पष्ट हो गया कि सरकार के पास जरूरी 272 की संख्या नहीं है। उसे मात्र 253 मतों का ही समर्थन प्राप्त है। उस प्रकार से कांग्रेस नेतृत्व सरकार को एक क्षण भी सरकार में रहने का हक नहीं बचा है। ” सीसौदिया ने कहा सरकार ने मुलायमसिंह और मायावती के दलों द्वारा बहिष्कार से सदन में प्रस्ताव भले ही बचा लिया हो मगर वह पूरी तरह अपने अल्पमत के साथ बेनकाव हो चुकी है। उसे सदन में नैतिक बहूमत 272 प्राप्त नहीं है। यह स्पष्ट साबित हुआ है। इसलिये सरकार का कोई भी निर्णय नैतिक बहूमत का नहीं कहा जा सकेगा है। भवदीय अरविन्द सीसौदिया जिला उपाध्यक्ष 9414180151 मल्टीब्रैंड रिटेल एफडीआई पर सरकार की जीत Wed, दिसम्बर 05, 2012 मल्टीब्रैंड रिटेल में एफडीआई पर लोकसभा में हुई वोटिंग