पोस्ट

जनवरी 1, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

बुरी ताकतों के विरूद्ध अच्छी ताकतें एक जुट हों - सह सरकार्यवाह सुरेश सोनी

इमेज
धर्म के सुसंस्कार ही समाज को विकृतियों से बचाते हैं -सह सरकार्यवाह सुरेश सोनी स्वामी विवेकानन्दजी के विचारों की प्रासंगिता आज की परिस्थितियों में अधिक -सह सरकार्यवाह सुरेश सोनी धर्म निरपेक्षता ही विकृतियों की जड है - सह सरकार्यवाह सुरेश सोनी बुरी ताकतों के विरूद्ध अच्छी ताकतें एक जुट हों - सह सरकार्यवाह सुरेश सोनी अरविन्द सीसोदिया 09509559131/09414180151 कोटा  31 दिसम्बर। धर्म के सुसंस्कार ही समाज को विकृतियों से बचाते हैं और विकृतियों पर अंकुश रखकर समाज में पवित्रता स्थापित करते है। वर्तमान भारत को विकृतियों से मुक्ति के लिये आध्यात्मिक मूल्यों की रचनात्मक शक्ति से परिपूर्ण संस्कारों से सुसंस्कारित करने की आवश्यक है। उक्त विचार राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के अखिल भारतीय पदाधिकारी सह सरकार्यवाह सुरेश सोनी ने सोमवार 31 दिस्मबर को स्वामी विवेकानन्द सार्धशति समारोह समिति, कोटा महानगर की ओर से आयोजित ‘‘प्रबुद्धजन समागम’’ कार्यक्रम में कहे।  उन्होने स्वामी विवेकानन्द जी के 150 वीं जंयति की प्रांसगिकता के महत्व को दर्ज करते हुये उन्होने बताया कि स्वामी विवेकानन्द के विचार भारतमाता की गौ