पोस्ट

फ़रवरी 6, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

बालिगा और नाबालिग मानना : विज्ञान सम्मत होना चाहिए

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया मेरा मानना हे कि न्यायलय को सिर्फ उम्र के किसी सरकार द्वारा कानून बना देने को नजर अंदाज यह कह कर कर देना चाहिए कि कोई भी व्यक्ति शारीरिक और मानसिक वयस्क 14 से 16 के बीच  हो जाता हे ।  बालिगा और नाबालिग  का मानना किसी सरकार के बजाये विज्ञान सम्मत  होना चाहिए ।  एक व्यक्ति दोबार बलात्कार करके हत्या कर रहा हे , वह किसी भी तरह से नाबालिग नहीं हे ।    ======== सुप्रीम कोर्ट 'जुविनायल जस्टिस एक्ट' यानी किशोर न्याय क़ानून के भीतर किशोर की परिभाषा पर दायर एक जनहित याचिका की सुनवाई के लिए तैयार हो गया है. न्यायालय में दाख़िल याचिका में कहा गया है कि साल 2000 के इस क़ानून में कई ऐसे प्रावधान हैं जो संविधान के भीतर मौजूद मूलभूत अधिकारों का उलंघन करते हैं.कहा गया है कि ये प्रावधान बराबरी, जीवन और आज़ादी के अधिकारों के मूलभूत अधिकारों के विरूद्ध हैं. न्याय बोर्ड किशोर न्याय क़ानून किशोरों के अपराध से संबंधित है और इस तरह के मामले किशोर न्याय बोर्ड में सुने जाते हैं. क़ानून के भीतर प्रावधान है कि जो किशोर या किशोरी 18 साल से कम उम्र के हैं, और वो अगर किसी अपराध में ल

‘भगवा आतंकवाद’ : गैर जिम्मेदाराना शब्द प्रयोग

इमेज
हिंदू आतंकवाद - मा. गो. वैद्य ‘हिंदू आतंकवाद’, ‘भगवा आतंकवाद’ जैसे गैरजिम्मेदाराना शब्दों का प्रयोग करने के लिए गृहमंत्री शिंदे का निषेध करने वाला लेख मैंने गत भाष्य में ही लिखा था. फिर उस विषय की चर्चा का वैसे कोई प्रयोजन नहीं था. लेकिन, वह लेख लिखने के बाद उसी विषय पर दो बहुत ही अच्छे लेख मैंने पढ़े. उन लेखों का भी मेरे वाचकों को परिचय हो, इस हेतु से उन लेखों का स्वैर अनुवाद यहॉं प्रस्तुत कर रहा हूँ. एस. गुरुमूर्ति का लेख पहला लेख है एस. गुरुमूर्ति का. वह चेन्नई से प्रकाशित होने वाले ‘न्यू इंडियन एक्सप्रेस’ के २४ जनवरी के अंक में प्रकाशित हुआ है. विषय मुख्यत: भारत-पाकिस्तान के बीच चलने वाली ‘समझौता एक्सप्रेस’में, भारत में पानिपत में हुए बम विस्फोट और उसके लिए बहुत देर बाद सरकारी जॉंच यंत्रणा ने तथाकथित हिंदू आतंकवादियों को धर दबोचने के बारे में है. वह इस प्रकार है - दाऊद इब्राहिम की मदद ‘‘२० जनवरी १३ को, जयपुर में कॉंग्रेस के तथाकथित चिंतन शिबिर में केंद्रीय गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे ने समझौता एक्सप्रेस, मक्का मसजिद और मालेगॉंव में हुए बम विस्फोट के लिए रा. स्व. संघ और भाजपा को ज