पोस्ट

मार्च 14, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

पाकिस्‍तानी संसद में अफजल की फांसी की निंदा

इमेज
पाकिस्तान की संसद ने अफजल गुरू की फांसी की निंदा करके यह साबित कर दिया कि वह भारत की संसद पर आतंकी हमले में सम्मिलित था। पाकिस्तान का दुस्साहस तो यह किया कि खुले आम भारत के आंतरिक मामले में भी हस्तक्षेप किया। मगर भारत सरकार पर तरस आता है कि वह डरे और दुम दवाये की तरह सिट्टी पिट्टी गुम किये हुये है। पाकिस्‍तानी संसद में अफजल की फांसी की निंदा आज तक ब्यूरो | नई दिल्‍ली/इस्लामाबाद, 14 मार्च 2013 पाकिस्तान की संसद ने भारतीय संसद पर हमले के दोषी अफजल गुरु को फांसी दिए जाने के खिलाफ गुरुवार को प्रस्ताव पारित किया और उसके शव को परिवार के सुपुर्द करने की मांग की. पाकिस्तानी संसद के निचले सदन नेशनल असेंबली ने अपना पांच साल का कार्यकाल पूरा होने से दो दिन पहले अफजल की फांसी के खिलाफ प्रस्ताव पारित किया. यह प्रस्ताव जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम के प्रमुख मौलाना फजलुर रहमान की ओर से पेश किया गया. इस प्रस्ताव में अफजल को फांसी दिए जाने की निंदा करने के साथ ही जम्मू-कश्मीर में पैदा हुई स्थिति पर चिंता जताई गई है. पाकिस्तानी संसद के इस सदन ने मांग की है कि अफजल के शव को उसके परिवार के सुपुर्

संघ लायगा, बांग्लादेश और पाकिस्तान में हिन्दुओं पर हो रहे अत्याचारों पर प्रस्ताव

इमेज
                                                 Press Briefing By Man Manmohan ji vaidhay पत्रकारों को संबोधित करते हुए डॉ वैद्य संघ की अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा की बैठक कल से बांग्लादेश और पाकिस्तान में हिन्दुओं पर हो रहे अत्याचारों पर लाया जाएगा प्रस्ताव जयपुर 14 मार्च । बांग्लादेश और पाकिस्तान में हिन्दुओ पर हो रहे अत्याचार के विरोध में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा में प्रस्ताव लाया जाएगा। जयपुर के केशव विद्यापीठ जामड़ोली में चल रही बैठक में इस विषय पर चर्चा के बाद रूप रेखा बन चुकी है। यह जानकारी संघ के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख डॉ.मनमोहन वैद्य ने गुरूवार को संवाददाताओं को दी। उन्होंने बताया कि बांग्लादेश में हिन्दुओं की स्थिति बहुत दयनीय हो चुकी है उनके अस्सी मंदिरों और आठ सौ घरों को उपद्रवियों द्वारा निशाना बनाया जा चुका है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में भी हिन्दुओं पर अत्याचार बढने के कारण वहां से उनका पलायन हो रहा है। पाक विस्थापित हिन्दू मजबूरी में शरणार्थियों का जीवन जीने को मजबूर है। अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा में रामसेतु, गंगा, यमुना में बढ़