पोस्ट

मई 4, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

टूट गया तीस्ता का तिलिस्म-अरुण कुमार सिंह

इमेज
http://vskjodhpur.blogspot.in शनिवार, 4 मई 2013 टूट गया तीस्ता का तिलिस्म तीस्ता का जन्म एक  गुजराती हिन्दू परिवार में 1961 में हुआ था। मुंबई में पढ़ने के दौरान वह एक मुस्लिम युवक के प्यार में पड़ गईं। कुछ दिनों तक पति-पत्नी ने पत्रकारिता की। 1992 में बाबरी ढांचे के ढहने के बाद तथाकथित साम्प्रदायिक ताकतों से लड़ने के लिए इन दोनों ने अगस्त 1993 में कम्युनल काम्बेट की शुरुआत की। कम्युनल काम्बेट के प्राय: हर अंक में हिन्दुत्वनिष्ठ संगठनों को गाली दी जाती है।  शायद इसीलिए सोनिया के निर्देश पर चलने वाली केंद्र सरकार ने तीस्ता को पद्मश्री से नवाजा है। तीस्ता राष्ट्रीय सलाहकार परिषद् की भी सदस्या हैं। सोनिया गांधी की अध्यक्षता में इसी परिषद् ने साम्प्रदायिक हिंसा रोकथाम विधेयक तैयार किया है। इस विधेयक में अनेक ऐसी बातें हैं, जो देश को साम्प्रदायिकता के आधार पर बांटती हैं।  अरुण कुमार सिंह आपने  तीस्ता जावेद सीतलवाड का नाम जरूर सुना होगा। वही तीस्ता, जिन्होंने एक हल्ला, एक ढोंग और गुजरात के दंगा पीड़ितों की आड़ में एक मायाजाल रचा था। लेकिन छद्म सेकुलरवाद का वह गढ़ दरकने लगा है। तीस्

पोर्न साइट्स पर सरकार रोक लगाने जा रही हे

एक अच्छी खबर आ रही हे कि सरकार पोर्न सीटों पर रोक लगाने जा रही हे http://www.bhaskar.com पोर्न साइट्स पर सरकार का हमला! 546 साइट्स बैन करने की तैयारी अमित मिश्रा  |  Apr 22, 2013 नई दिल्ली। दुष्कर्म की बढ़ती घटनाओं और सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद सरकार पोर्न साइट्स पर पाबंदी लगाने की तैयारी में है। साइबर अपराध शाखा और खुफिया विभाग की जांच टीम ने सरकार को सौंपी रिपोर्ट में बताया है कि इंटरनेट के जरिए 60 प्रतिशत तक अश्लील साइट्स को देखा जाता है। यानी इंटरनेट के जरिए की जाने वाली कुल सर्फिंग में से करीब 60 फीसदी ये साइट्स देखी जाती हैं। लगभग 546 साइट्स को प्रतिबंधित करने के लिए चिह्नित किया जा चुका है। इन साइट्स पर प्रतिबंध लगाने के लिए सरकार गूगल और याहू जैसी इंटरनेट सेवा देने वाली कंपनियों की भी मदद लेगी। उल्लंघन करने पर सर्च इंजन पर रोक जैसे कड़े कदम भी उठाए जा सकते हैं। गुडिय़ा से दुष्कर्म के मुख्य आरोपी मनोज ने यह स्वीकार किया है कि वारदात को अंजाम देने से पहले उसने अश्लील साइट्स पर कई क्लिपिंग्स देखी और उसके बाद उसने यह कुकर्म किया। इस खुलासे के बाद अब समाज के हर वर्ग

रेलमंत्री पवन कुमार बंसल के भांजे विजय सिंगला रिश्वत कांड में गिरिफ्तर

इमेज
 रेलमंत्री पवन कुमार बंसल के भांजे विजय सिंगला रिश्वत कांड में गिरिफ्तर   04 May 2013 नई दिल्ली [जागरण ब्यूरो]। करोड़ों की रिश्वत देकर रेलवे बोर्ड का सदस्य बनाए जाने के मामले में रेल मंत्री पवन कुमार बंसल भले ही भांजे विजय सिंगला से अपने संबंधों को नकार रहे हों, लेकिन उनके लिए सीबीआइ के सवालों का जवाब देना मुश्किल हो सकता है। छापे के दौरान जब्त दस्तावेजों और गिरफ्तार आरोपियों से जो कुछ जानकारी मिली है, उससे जांच का दायरा बड़ा हो गया है। मामले को तूल पकड़ता देख रेल मंत्री पवन बंसल ने प्रधानमंत्री से मुलाकात कर अपने इस्तीफे की पेशकश की। हालांकि कांग्रेस ने उनका बचाव करते हुए कहा है कि इस मामले में रेल मंत्री ने अपनी सफाई दे ही है और उनके इस्तीफे का सवाल ही नहीं उठता। कांग्रेस के प्रवक्ता जनार्दन द्विवेदी ने कहा कि इस मामले में रेल मंत्री का सफाई आ गया है। उन्होंने खुद कहा है कि इस मामले में पूरी जांच होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि इससे ज्यादा आप रेल मंत्री से अपेक्षा नहीं कर सकते हैं। उनके इस्तीफे का सवाल ही नहीं उठता। उन्होंने विपक्षी पार्टियों पर निशाना साधते हुए कहा कि उन