पोस्ट

जून 5, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

सोनिया की एनएसी में माओवादियों के शुभ चिन्तक - नरेंद्र मोदी

इमेज
मोदी ने सोनिया पर बोला सीधा हमला नवभारत टाइम्स.कॉम | Jun 5, 2013, नई दिल्ली ।। गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर यूपीए सरकार और सोनिया गांधी पर सीधा हमला बोलते हुए आरोप लगाया कि माओवादियों को संरक्षण देने का काम यूपीए नेतृत्व कर रहा है। उन्होंने कहा कि सोनिया की अगुवाई वाली एनएसी (राष्ट्रीय सलाहकार परिषद) के सदस्य माओवादियों को अपने एनजीओ का नेतृत्व सोंपने  में भी नहीं हिचकते। मुख्यमंत्रियों के सम्मेलन में शिरकत करने दिल्ली आए मोदी ने मीडियाकर्मियों से बातचीत करते हुए कहा कि नक्सल समस्या को देश की सबसे गंभीर समस्या करार देने वाली यूपीए सरकार यह भी नहीं देख पा रही कि उसकी सबसे ताकतवर संस्था ही माओवादियों को संरक्षण देने के काम में इस्तेमाल की जा रही है। उन्होंने कहा कि पिछली बार जब उड़ीसा में एक जिलाधिकारी को माओवादियों ने किडनैप किया था, तो जिलाधिकारी को छोड़ने की एवज में उन लोगों ने पांच माओवादियों को छोड़ने की मांग की थी। इन 5 माओवादियों में एक पद्मा भी थी जो एक जाने-माने माओवादी नेता की पत्नी भी हैं। उन्होंने कहा कि पद्मा एक एनजीओ की हेड हैं यह एनजीओ सोनिया

उपचुनाव : मोदी का क्लीन स्वीप, नीतीश को झटका

इमेज
उपचुनावः मोदी का क्लीन स्वीप, नीतीश को झटका नवभारतटाइम्स.कॉम | Jun 5, 2013, नई दिल्ली।। पांच राज्यों में लोकसभा की 4 सीटों और विधानसभा की 6 सीटों पर हुए उपचुनाव के नतीजों ने साबित किया कि गुजरात में मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी का जादू सिर चढ़कर बोल रहा है। सत्ताधारी पार्टी बीजेपी ने दोनों (बनासकांठा और पोरबंदर) लोकसभा और चारों विधानभा सीटें कांग्रेस से छीन ली हैं। बिहार में महाराजगंज लोकसभा सीट के उपचुनाव में नीतीश को बड़ा झटका लगा है। सरकार में शिक्षा मंत्री और जेडीयू के उम्मीदवार प्रशांत कुमार शाही आरजेडी के प्रभुनाथ सिंह से 1 लाख 37 हजार वोटों से हार गए हैं। उधर, पश्चिम बंगाल की हावड़ा लोकसभा सीट दोबारा सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के खाते में चली गई है। गुजरातः गुजरात में दो लोकसभा सीटों- पोरबंदर और बनासकांठा के लिए और चार विधानसभा सीटों - धोराजी, जेतपुर, लिंबरी और मोरवा हड़फ के लिए हुए उपचुनाव में बीजेपी ने शानदार जीत दर्ज की। बीजेपी शासित गुजरात में इन उपचुनावों को विपक्षी कांग्रेस के लिए एक अग्निपरीक्षा माना जा रहा था। ये सभी सीटें कांग्रेस के पास थीं। बनासकांठा लोकसभा सीट कांग