पोस्ट

अगस्त 13, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

हिंदुओं के दमन की विश्वव्यापी दास्तान- उमाशंकर मिश्र

इमेज
हिंदुओं के दमन की विश्वव्यापी दास्तान September 17, 2008 - उमाशंकर मिश्र यह दास्तान है भारत समेत एशिया के अनेक देशों में हिन्दुओं के साथ होने वाले सौतेले व्यवहार की, जो बताती है कि अमरनाथ श्राईन बोर्ड की जमीन छीनकर हिन्दुओं की आस्था एवं उनके धार्मिक प्रतीकों पर पहली बार हमला नहीं हुआ है, इसकी जड़ें बहुत अधिक गहरी एवं विषैली हैं। अमरनाथ श्राईन बोर्ड से जमीन वापस लिये जाने का मसला पर्याय है मुस्लिम तुष्टीकरण का जो हिन्दुओं की आस्था और उनसे जुड़े प्रतीकों के समक्ष एक चुनौती बनकर आ खड़ी हुई है। हालांकि इस तरह से हिन्दुओं के साथ व्यवहार पहली बार किया गया हो ऐसा नहीं है और ऐसा भी नहीं है कि सिर्फ भारत में ही इस तरह का जातीय भेदभाव हिन्दुओं को झेलना पड़ा है, बल्कि एशिया के अनेक देशों में वहां की सरकारों की शह पर हिन्दुओं पर न केवल अत्याचार किए गए बल्कि उनकी आस्था के प्रतीकों पर भी हमले हुए हैं। अमरनाथ श्राईन बोर्ड से जमीन छीने जाने के खिलाफ हिन्दुओं का उग्र होना लाजमी था। जम्मू-कश्मीर के नये राज्यपाल श्री एन.एन. वोहरा ने पद संभालते ही अमरनाथ श्राईन बोर्ड से जमीन वापिस लेने के आदेश द

आधुनिक पूंजीवाद का क्रूर जंगल

इमेज
आधुनिक पूंजीवाद का क्रूर जंगल - केबिन रैफट्री http://epaper.bhaskar.com/kota ब्रिटेन के केंद्रीय बैंक, बैंक ऑफ इंग्लैंड के पहले विदेशी गवर्नर मार्क कार्नी को चर्चा में रहना पसंद है। पिछले हफ्ते दो साहसी बयान दिए हैं। पहले तो उन्होंने कहा कि वे मौजूदा 0.5 फीसदी की कम ब्याज दरें तब तक नहीं बढ़ाएंगे जब तक कि बेरोजगारी की दर 7 फीसदी तक नहीं गिरती, जो शायद 2016 तक न हो। इसके बाद उन्होंने और भी बड़ा विवादास्पद बयान दिया। उन्होंने देश के बैंकों को चेताते हुए कहा कि उन्हें निवेश के जरिये बिजनेस की मदद कर रोजगार पैदा करने चाहिए वरना वे 'सामाजिक रूप से अनुपयोगी' हो जाएंगे। उन्होंने बैंकों की संस्कृति में बदलाव लाने की भी बात कही। उन्होंने जो कहा वह काफी हद तक सही है, लेकिन कुछ लोगों को यह सलाह हजम नहीं होगी। इसकी वजह यह है कि यह बात ऐसे व्यक्ति के मुंह से आ रही है जिसने खून चूसने वाले दैत्य जिसे प्यार से गोल्डमैन सैक्स भी कहते हैं, में 15 साल तक वरिष्ठ पद पर काम किया है। बेहतर होगा कि वे बदलती दुनिया में बैंकों की भूमिका पर गहरा और व्यापक चिंतन करें। कार्नी की बजाय क्योटो