पोस्ट

सितंबर 6, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

भारतीय लेखिका सुष्मिता बनर्जी की हत्या चरमपंथी संगठन तालिबान ने कर दी

इमेज
चरमपंथी संगठन तालिबान से बच निकलने की अपनी चर्चित कहानी डायरी की शक्ल में लिखने वाली सुष्मिता बैनर्जी की संदिग्ध चरमपंथियों ने हत्या कर दी है. ------ बीबीसी के अनुसार, पक्तिका प्रांत की राजधानी खरना में 49 वर्षीय बनर्जी को उनके घर के बाहर ही मार डाला गया। उन्होंने अफगान व्यापारी जांबाज खान से शादी की थी और हाल में ही वह उनके साथ रहने के लिए अफगानिस्तान लौटी थीं। तालिबान आतंकियों ने घर में उनके पति और परिवार के अन्य सदस्यों को बांध दिया और बनर्जी को घर से बाहर लाकर गोली मार दी। इसके बाद शव को आतंकियों ने समीप के एक धार्मिक स्कूल में फेंक दिया। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि स्वास्थ्य सेविका के रूप में काम करने वाली बनर्जी, सईद कमला के नाम से भी जानी जाती थीं। हमले की किसी भी समूह ने जिम्मेदारी नहीं ली है। ------ सुष्मिता बनर्जी की हत्या पर भड़के बुद्धिजीवी, कहा-महिलाओं की आवाज को दबा नहीं सकता तालिबान ज़ी मीडिया ब्‍यूरो कोलकाता/नई दिल्‍ली : भारतीय लेखिका सुष्मिता बनर्जी की अफगानिस्तान में उग्रवादियों द्वारा हत्या किए जाने की आलोचना करते हुए बुद्धिजीवियों ने कहा कि उनकी