पोस्ट

सितंबर 13, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

श्रीराधारानी की राधाष्टमी

इमेज
राधाष्टमी  - अभिनव शर्मा "वासिष्ठ" http://abhinavvashishtha.blogspot.in/2012/09/23912.html  राधाष्टमी      भाद्रपद मास में शुक्ल पक्ष की अष्टमी को कृष्ण प्रिया राधाजी का जन्म हुआ था, अत: यह दिन राधाष्टमी के रूप में मनाया जाता है. राधाष्टमी के अवसर पर उत्तर प्रदेश के बरसाना में हजारों श्रद्धालु एकत्र होते हैं. बरसाना को राधा जी की जन्मस्थली माना जाता है. बरसाना मथुरा से 50 कि.मी. दूर उत्तर-पश्चिम में और गोवर्धन से 21 कि.मी. दूर उत्तर में स्थित है. यह एक पर्वत के ढ़लाऊ हिस्से में बसा हुआ है जिसे ब्रह्मा पर्वत के नाम से जाना जाता है.  राधाभाव   श्रीकृष्ण की भक्ति, प्रेम और रस की त्रिवेणी जब हृदय में प्रवाहित होती है, तब मन तीर्थ बन जाता है। 'सत्यम्‌ शिवम्‌ सुंदरम्‌' का यह महाभाव ही 'राधाभाव' कहलाता है. श्रीकृष्ण वैष्णवों के लिए परम आराध्य हैं, वैष्णव श्रीकृष्ण को ही अपना सर्वस्व मानते हैं, आनंद ही उनका स्वरूप है. भगवान श्रीकृष्ण की उपासना मात्र वैष्णवों के लिए ही नहीं, वरन समस्त प्राणियों के लिए आनंददायक है. श्रीकृष्ण ही आनंद का मूर्तिमान स्वरूप हैं और कृष्ण