पोस्ट

अक्तूबर 5, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

शारदीय नवरात्री-नवदुर्गा : नौ रूपों का पूजन

इमेज
http://jagkalyannews.blogspot.in शारदीय नवरात्रा का प्रारम्भ आश्विन शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि को कलश स्थापन के साथ होता है. कलश को हिन्दु विधानों में मंगलमूर्ति गणेश का स्वरूप माना जाता है अत: सबसे पहले कलश की स्थान की जाती है. कलश स्थापन के लिए भूमि को सिक्त यानी शुद्ध किया जाता है. भूमि की सुद्धि के लिए गाय के गोबर और गंगाजल से भूमि को लिपा जाता है. विधान के अनुसार इस स्थान पर सात प्रकार की मिट्टी को मिलाकर एक पीठ तैयार किया जाता है, अगर सात स्थान की मिट्टी नहीं उपलब्ध हो तो नदी से लायी गयी मिट्टी में गंगोट यानी नदी की मिट्टी मिलाकर इस पर कलश स्थापित किया जा सकता है | नवरात्री-नवदुर्गा : नौ रूपों का पूजन नवरात्रि का त्योहार नौ दिनों तक चलता है। इन नौ दिनों में तीन देवियों पार्वती, लक्ष्मी और सरस्वती के नौ स्वरुपों की पूजा की जाती है। पहले तीन दिन पार्वती के तीन स्वरुपों (कुमार, पार्वती और काली), अगले तीन दिन लक्ष्मी माता के स्वरुपों और आखिरी के तीन दिन सरस्वती माता के स्वरुपों की पूजा करते हैं। वासन्तिक नवरात्रि के नौ दिनों में आदिशक्ति माता दुर्गा के उन न

'आतंकी आसमान से नहीं आते। वे पड़ोसी देश के नियंत्रण वाले भूभाग से ही आते हैं।' - प्रणब मुखर्जी, राष्ट्रपति

इमेज
पाकिस्तान पर राष्ट्रपति प्रणब का करारा प्रहार Sat, 05 Oct 2013   ब्रसेल्स। सख्त मिजाज वाले राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान को आड़े हाथ लेते हुए करारा प्रहार किया। शुक्रवार को उन्होंने पाक को कड़ा संदेश देते हुए कहा कि सीमापार से सरकार प्रायोजित आतंकवाद अस्वीकार है। चार दिवसीय बेल्जियम यात्रा पर पहुंचे प्रणब ने कहा कि भारत अपने पड़ोसी देश के साथ शांतिपूर्ण संबंध चाहता है, लेकिन अपनी क्षेत्रीय अखंडता के साथ कोई समझौता नहीं करेगा।  भारत में आतंकी गतिविधियों के पीछे गैरसरकारी तत्वों (नॉन स्टेट एक्टर्स) का हाथ होने के पाकिस्तान के दावे को उन्होंने सिरे से खारिज कर दिया। मुखर्जी ने कहा कि वे (आतंकी) आसमान से नहीं आ रहे हैं, बल्कि पड़ोसी देश के नियंत्रण वाले भूभाग से आते हैं। मुखर्जी ने दोहराया कि पाकिस्तान में आतंकवाद के बुनियादी ढांचे के सफाए की जरूरत है। उन्होंने कहा, 'आतंकी गतिविधियों पर अंकुश लगाया जाना चाहिए। सरकार प्रायोजित आतंकवाद को स्वीकार नहीं किया जा सकता। इसलिए हम लगातार दोहरा रहे हैं कि कृपया अपने इलाके में मौजूद आतंकी संगठनों का खात्मा