पोस्ट

अक्तूबर 28, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

पटना : पांच नहीं पांच हजार लोगों को मारने की थी साजिश

चित्र
हमनें आज सुबह ही कहा था कि मूल योजना हसंदों हजारों को भगदड़ मचा कर मारनें की थी यह भाजपा कि कुशल रणनीति रही कि उन्होंने भगदड़ नहीं मचानें दी। सायंकाल तक इस कि पुष्टि हो गई !! यह एक बहुत बड़ी साजिस हे मोदी की सभाओं को रोकनें की , इसकी पूरी ईमानदारी से जाँच होनी चहिये। इसके अलावा यह भारतीय लोकतंत्र पर हमला है।  उसे प्रभावित करनें कि कोशिस हे। पांच नहीं पांच हजार लोगों को मारने की थी साजिश, पढ़ें क्या थी योजना! राजेश कुमार ओझा   |  Oct 28, 2013 http://www.bhaskar.com/article/BIH-PAT-five-hadred-no-plans-to-kill-five-thousand-bihar-patna-news-4417835-PHO.html पटना। गांधी मैदान में पांच नहीं पांच हजार को मारने की योजना थी। इसलिए आतंकी गांधी मैदान की जगह मैदान के बाहर विस्फोट करा रहे थे। लेकिन नरेंद्र मोदी को देखने और सुनने आए लोगों के उत्साह के कारण इनके मंसूबे पर पानी फिर गया। सीरियल बम ब्लास्ट का मास्टर माइंड इम्तियाज ने गिरफ्तारी के बाद ये बात पटना पुलिस के सामने स्वीकार किया है। अपनी योजना को अंजाम देने के लिए इम्तियाज अपने छह सात साथियों के साथ पिछले कई दिनों से पटना में रूका था। पुल

सुनो केंद्र सरकार,मोदी की जान को खतरा वास्तव में है

चित्र
सुनो केंद्र सरकार , मोदी की जान को खतरा वास्तव में  है ……………… यह तो सच ही हे कि बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने व्यक्तीगत द्वेष के चलते , राजधर्म निभाने में कोताही बरती , जो उन्हें बहुत महंगा पड़ा , आज उनकी निंदा  का मुख्यकारण यही रहा कि , उन्होंने अपनी जिम्मेवारी को गंभीरता से नहीं  लिया !! केंद्र सरकार भी यह कह कर पल्ला नहीं झाड़ सकती कि हमनें एलर्ट जारी कर दिया था , आप पर सूचना थी तो आपनें रोकने के लिए क्या किया !! सो गए या भूल गए !!!       अब यह भी ध्यान रहे कि " आप राजनैतिक द्वेष में यह मत भूल जाना कि मोदी जी की जान को बाकई में खतरा है और उनकी रक्षा करना आपका राजधर्म है !!!!!" 'मोदी आतंकियों के निशाने पर, 23 को बिहार पुलिस को भेजा गया अलर्ट' 2013-10-28 नई दिल्ली: बिहार में नरेंद्र मोदी की रैली में हुए सीरियल ब्लास्ट को लेकर नीतीश सरकार की पोल खुल गई है। जांच एजेंसी इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) के मुताबिक 23 अक्टूबर को बिहार पुलिस को आगाह किया गया था। आईबी के मुताबिक कई आतंकी संगठनों के निशाने पर मोदी हैं। आईबी ने बताया ये सुराग आईएम के पकड़े गए लोगों के