पोस्ट

नवंबर 15, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

क्रांतिकारी केसरी सिंह बारहठ

इमेज
केसरी सिंह बारहट http://hi.wikipedia.org/s/19c7     1 क्रांतिकारी कवि केसरी सिंह बारहठ         1.1 जीवन परिचय         1.2 शिक्षा प्रसार हेतु योजनाएं     2 'अक्षर' के स्वरूप पर शोध-कार्य         2.1 सशस्त्र क्रांति के माध्यम से देश की स्वतंत्रता-प्राप्ति का प्रयास         2.2 राजद्रोह का मुकदमा         2.3 जेल से छूटने के बाद         2.4 उत्तर-जीवन         2.5 चेतावनी रा चूंग्ट्या     3 बाहरी कड़ियाँ क्रांतिकारी कवि केसरी सिंह बारहठ जीवन परिचय जिन लोगों ने समाज और राष्ट्र की सेवा में अपना सर्वस्व ही समर्पित कर डाला हो , ऐसे ही बिरले पुरुषों का नाम इतिहास या लोगों के मन में अमर रहता है | सूरमाओं, सतियों,और संतों की भूमि राजस्थान में एक ऐसे ही क्रांतिकारी, त्यागी और विलक्षण पुरुष हुए थे - कवि केसरी सिंह बारहठ, जिनका जन्म २१ नवम्बर १८७२ में श्री कृष्ण सिंह बारहठ के घर उनकी जागीर के गांव देवपुरा रियासत शाहपुरा में हुआ| केसरी सिंह की एक माह की आयु में ही उनकी माता का निधन हो गया, अतः उनका लालन-पालन उनकी दादी-माँ ने किया | उनकी शिक्षा उदयपुर में हुई | उन्होंने बांगला,मराठी,गुजरात

जगद्गुरु कृपालुजी महाराज का आकस्मिक निधन : सोमवार को अंत्येष्ठि

इमेज
कृपालु महाराज के पार्थिव शरीर का सोमवार को अंतिम संस्कार 15 Nov 2013 जगद्गुरु कृपालु महाराज के पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिये प्रतापगढ़ के कुण्डा स्थित भक्तिधाम मनगढ़ में दो दिन तक रखा जाएगा. भक्तिधाम मनगढ़ आश्रम के सूत्रों ने बताया कि कृपालु महाराज का पार्थिव शरीर इलाहाबाद के रास्ते मनगढ़ लाया जाएगा जिसे दो दिन तक भक्तों के अंतिम दर्शन के लिये रखा जाएगा. पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार आगामी सोमवार को मनगढ़ में ही किया जाएगा. गौरतलब है कि भक्तिधाम मनगढ़ के जगद्गुरु 91 वर्षीय कृपालु महाराज पिछले सोमवार को सैर के दौरान फिसलकर गिर गये थे. घायल अवस्था में उन्हें गुड़गांव के फोर्टिस अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां आज तड़के उन्होंने देह त्याग दिया.फोर्टिस अस्पताल से मिली जानकारी के अनुसार उन्हें 11 नवंबर को गंभीर हालत में इलाहाबाद से यहां लाया गया था. उन्हें जीवनरक्षक प्रणाली पर रखा गया था. कुछ दिन पहले आश्रम में गिर जाने के कारण उनके मस्तिष्क में चोट लगी थी. अस्पताल के सूत्रों ने बताया कि उनके मस्तिष्क का आपातकालीन ऑपरेशन किया गया था. उनका निधन आज सुबह 7 बजकर 5 मिनट पर हुआ.वह

एक साल में प्याज 278% और टमाटर 122% महंगा

इमेज
एक साल में प्याज 278% और टमाटर 122% महंगा नई दिल्ली Ethindi.com | Nov 15, 2013, सब्जियों की महंगाई के चलते होलसेल इन्फ्लेशन अक्टूबर में 8 महीने के पीक पर पहुंच गया। इससे चुनावी सीजन में माहौल और गर्म हो गया है। अक्टूबर में सब्जियों की थोक कीमतें एक साल पहले की तुलना में 78.38 फीसदी ऊंची रही। इनमें प्याज ने सबसे अधिक रुलाया, जो 278.21 फीसदी महंगा रहा। टमाटर भी 122 फीसदी महंगा रहा। होलसेल इन्फ्लेशन अक्टूबर में बढ़ कर 7 फीसदी हो गया, जो सितंबर में 6.46 पर्सेंट था। यह चालू फाइनैंशल इयर में इसका उच्चतम स्तर है। गुरुवार को जारी सरकारी आंकड़ों के मुताबिक खाद्य उत्पादों का इन्फ्लेशन अक्टूबर में 18.19 फीसदी रहा। अंडा, मांस और मछली जैसे प्रोटीनयुक्त उत्पादों की महंगाई दर अक्टूबर में 17.47 प्रतिशत रही, जबकि इससे पिछले महीने इस वर्ग की मंहगाई दर 13.37 प्रतिशत थी। इस महीने रीटेल इन्फ्लेशन 10.09 पर्सेंट रहा था। एचएसबीसी में आसियान और भारत के चीफ इकनॉमिस्ट लाइफ एस्केसेन ने नोट में लिखा है, 'महंगाई अब भी सता रही है। सरकार को इसे कम करने के लिए तुरंत स्ट्रक्चरल रिफॉर्म करने चाहिए। महंगाई क

'देश बेचने से अच्छा है चाय बेचना' - नरेंद्र मोदी

इमेज
नरेंद्र मोदी का कांग्रेस पर जोरदार हमला, 'देश बेचने से अच्छा है चाय बेचना'  From NDTV India, 15 नवम्बर, 2013 रायपुर: छत्तीसगढ़ की चुनावी रैली में नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर जोरदार हमला बोला और कहा कि चाय बेचने वाला प्रधानमंत्री बनेगा या नहीं, यह देश तय करेगा। उन्होंने यह भी कहा कि देश बेचने वाला प्रधानमंत्री नहीं बनना चाहिए। मोदी ने आगे कहा कि गरीब माता−पिता की संतान होना क्या गुनाह है? उन्होंने एक बार फिर लता मंगेशकर पर कांग्रेसी नेताओं के हमले का जिक्र किया और कहा कि लताजी ने मोदी को प्रधानमंत्री बनते देखने की बात क्या कही, कांग्रेसी नेता बिफर पड़े और उनसे भारत रत्न वापस लेने की मांग करने लगे। मोदी ने कांग्रेस नेताओं पर फासीवादी होने का आरोप लगाते हुए कहा कि क्या लता मंगेशकर को अपनी बात कहने का हक नहीं है। मोदी ने कहा कि कांग्रेस के पास दो ही काम रह गए हैं, मोदी खोजो और सोना खोजो।  बीजेपी के पीएम पद के उम्मीदवार ने कहा कि गांधीजी की आखिरी इच्छा थी कि कांग्रेस को भंग किया जाए। मोदी ने लोगों से अपील की कि वह कांग्रेस को बिखेर कर गांधीजी का सपना पूरा करें। मोदी ने इस