पोस्ट

जनवरी 31, 2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

देश की जनता कि जागरूकता से ही, देश का भाग्य सुनिश्चित - परमपूजनीय सरसंघचालक मोहनराव भागवत

चित्र
देश की जनता कि जागरूकता से ही, देश का भाग्य सुनिश्चित  - परम पूजनीय सरसंघचालक मोहनराव भागवत http://vskjodhpur.blogspot.in/2014/01/blog-post_1282.html सिरोही, राजस्थान  के अरविन्द पैवेलियन  से । परम पूजनीय सरसंघचालक  मोहनराव भागवत ने अरविंद पैवेलियन में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि जब तक देशवासी खुद को नहीं पहचानेंगे , तब तक हमारे चारों ओर विभिन्न समस्याएं बनी रहेंगी। उन्होंने कहा कि आज हम देश की उन्नति की बात छोड़कर बाकी सब करते हैं। देश की समस्याओं के लिए एक दूसरे पर दोषारोपण करते हैं, लेकिन इससे कुछ नहीं होने वाला। शराबी की, महाभारत की और शेर की कहानियां सुनाकर, उन्होंने आव्हान किया कि पहले हमें खुद को पहचानना होगा, तभी हम देश को आगे बढ़ा पाएंगे, तभी देश के भाग्य का उदय हो सकेगा। उन्होंने कहा कि संघ के कार्यक्रम शक्ति प्रदर्शन के लिए नहीं बल्कि आत्म दर्शन के लिए होते हैं। यह कार्यक्रम आत्म साक्षात्कार  है ताकि वह अपनी क्षमताओं  को पहचाने और उसका उपयोग  राष्ट्र हित में करे।  डॉ०    भागवत जी  ने अपने उद्बोधन में कहा कि सम्पूर्ण विश्व भारत कि औ