पोस्ट

मार्च 13, 2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

नेताजी की रहस्यमय मौत : क्यों ऊँगली उठती हे रूस कि तरफ ?

इमेज
जब  भी बात सुभाष चन्द्र बोस की चलती हे , तब ही यह बात आती है कि हबाई हादसा हुआ ही नहीं और फिर बात रूस की तरफ बड़ कर समाप्त होती है । ज्यादातर मौकों पर ऐशा ही क्यों होता है ? यह समाचार I B N से है ! नेताजी की रहस्यमय मौत पर एक और सनसनीखेज खुलासा वार्ता | Jan 29, 2013 http://khabar.ibnlive.in.com/news/90711/1 कोलकाता। नेताजी सुभाषचंद्र बोस की रहस्यम मृत्यु पर एक और सनसनीखेज खुलासा करते हुए रूस में रामकृष्ण मिशन के प्रमुख मंहत ने कहा है कि नेताजी की मौत विमान दुर्घटना में नहीं बल्कि रूस की एक जेल में हुई थी। रूस में पिछले दो दशक से रामकृष्ण मिशन के अध्यक्ष रहे ज्योतिरानंद ने अपनी हाल की असम यात्रा के दौरान एक टेलीविजन साक्षात्कार में यह बात कही। उन्होंने कहा कि भारत सरकार का यह दावा गलत है कि नेताजी 18 अगस्त 1945 को ताईवान में ताईहोकू हवाई अड्डे पर विमान दुर्घटना में मारे गए थे। उन्होंने कहा कि सच्चाई यह है कि उन्हे रूसियों ने पकड़ लिया था और ओमस्क की जेल मे कैद कर दिया था जहां काफी समय बाद उन्होंने अंतिम सांस ली थी। ओमस्क रूस के साइबेरिया क्षेत्र का एक छोटा शहर है।

रहस्यमय विमान हादसे, जो बस अनसुलझी गुत्थी : ABP News

रहस्यमय विमान हादसे, जो बस अनसुलझी गुत्थी बनकर रह गए! ABP News वेब डेस्क, गुरुवार, १३ मार्च २०१४ नई दिल्ली: फ्लाइट के दौरान अचानक लापता हो गए मलेशियाई एयरलाइन के विमान एमएच 370 का फिलहाल कहीं कोई सुराग नहीं है. विमानों के अचानक लापता हो जाने की ये कोई पहली घटना नहीं है. ऐसी  जब विमान राडार पर कोई संकेत छोड़े बिना अचानक कहीं लापता हो गया और जिसका कहीं कोई सुराग नहीं मिला. पेश हैं ऐसे 6  जो फ्लाइट के दौरान हुए और जिनके बारे में अब तक कहीं कोई जानकारी नहीं है. एयर फ्रांस फ्लाइट 447  2009 में रियो डि जेनेरियो से पेरिस जा रही एक एयरबस ए330 अटलांटिक महासागर में गायब हो गई. इस दुर्घटना में सभी 228 यात्री और चालक दल के सदस्यों की मौत हो गई. इस दुर्घटना में मारे गए लोगों के शवों और मलबे की खोज और बचाव कार्य दलों को वहां पहुंचने में पूरे 5 दिन लग गए थे. हादसे की वजह 3 वर्ष बाद सामने आई कि बर्फ के टुकड़ों के कारण ऑटोपायलट अलग हो गया था. इस दुर्घटना के 74 यात्रियों के शवों को अबतक निकाला नहीं जा सका है. एमिलिया ईयरहार्ट का हादसा  विमानन इतिहास की ये सबसे ज्यादा चर्चित घटना है जिसमें एक बहुत ही

'आप' की वेबसाइट पर कश्मीर का हिस्सा पाकिस्तान में!

'आप' की वेबसाइट पर कश्मीर का हिस्सा पाकिस्तान में! नवभारतटाइम्स.कॉम | Mar 11, 2014 नई दिल्ली आम आदमी पार्टी (आप) एक और विवाद में फंसती दिख रही है। 'आप' के डोनेशन वाले पेज पर भारत का विवादित नक्शा दिखाया गया था, लेकिन सोशल मीडिया पर चर्चा और हमारी साइट पर स्टोरी आने के बाद इसे हटा लिया गया है। इसमें पाक अधिकृत कश्मीर (PoK) को भारत में नहीं दिखाया गया था। ट्विटर पर लोग इस विवादित नक्शे को शेयर करके 'आप' की खिंचाई कर रहे हैं, लेकिन पार्टी की ओर से इस मामले अभी कोई बयान जारी नहीं हुआ है। यह स्टोरी लगाए जाने के बाद 'आप' की साइट पर से विवादित नक्शे को हटा लिया गया है। हमने नक्शे का स्क्रीनशॉट इसे हटाए जाने से पहले ही ले लिया था। नीचे लगे इमेज में www.aaptrends.com यूआरएल भी साफ दिख रहा है। इस विवादित नक्शे के नीचे @AAP2014 ट्विटर हैंडल की ओर से यह सफाई दी गई थी, 'यह भारत का वास्तविक नक्शा नहीं है। हरे रंग में दिखाए गए हिस्से भारत के उस भाग को दिखाते हैं, जहां से पार्टी को ज्यादातर डोनेशन मिल रहे हैं। आप लोग प्रॉपेगैंडा में इतने अंधे हो गए हैं कि

भारतीय नववर्ष चैत्र शुक्ला एकम् आ रहा 31 मार्च को

इमेज
भारतीय नववर्ष चैत्र शुक्ला एकम् आ रहा 31 मार्च को इसदिन से प्रारम्भ होगा विक्रम संवत 2071 !! आओ स्वागत में जुट जायें। मेरा अपना नववर्ष ! आपका अपना नववर्ष !!घर घर भगवा पतायें लगायें। रंगोली सजायें। दीपक जलायें। उत्सव आनंद मनायें। ======================================== स्वागतम् विक्रम संवत् बिखरी रंग—बिरंगी छटाएँ और आतिशी नजारे चैती एकम री निकली सवारी उदयपुर। विक्रम संवत् के स्वांगत में सुबह से शुरू हुए कार्यक्रमों के तहत स्कूली बच्चों  ने शहर के विभिन्न  चौराहों पर राहगीरों, नागरिकों को तिलक लगाकर नीम की कोंपल, काली मिर्च और मिश्री का प्रसाद खिलाकर शुभकामनाएं दीं वहीं चैत्र नवरात्रि स्था पना पर शहर के दैवी मंदिरों में सुबह से श्रद्धालुओं की भीड़ रही। आते-जाते हर राहगीर को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वोयंसेवकों ने भी मां सरस्वती के छोटे-छोटे चित्र भेंटकर शुभकामनाएं दीं वहीं स्कूली बच्चों  के आग्रह को कोई नकार नहीं पाया। शाम को पाला गणेशजी से चैती एकम की सवारी निकाली गई जो दूधतलाई पहुंची जहां आतिशबाजी के साथ संवत् 2069 का भव्यभ स्वागत किया गया। नगर परिषद की ओर से