पोस्ट

अप्रैल 16, 2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

‘महानायक’ और मध्यवर्ग

इमेज
ये विचार एक वरिष्ठ पत्रकार के हैं , मेरी मान्यता हे की देश में कांग्रेस के वर्त्तमान वहिष्कार का कारण आसमान को भी पार कर गई मंहगाई ही है ।   ==== अज्ञान का आनंदलोक और मध्यवर्ग Apr 15 2014  , ।। उर्मिलेश ।। वरिष्ठ पत्रकार http://www.prabhatkhabar.com/news/106775-Ignorance-Anandalok-middle-class-Modi.html नये मध्य वर्ग के सरोकार बिल्कुल सीमित हैं. आज यही ‘खुशहाल’ वर्ग ‘मनमोहन-सोनिया-राहुल एंड कंपनी’ को छोड़ कर मोदी के यशोगान में जुटा है. कुछ समय के लिए इस वर्ग के एक हिस्से ने दिल्ली में अन्ना-केजरी के अभियान का साथ दिया था. अब तक के चुनाव प्रचार से जो तसवीर उभरी है, उसमें एक बात साफ झलक रही है, कि हिंदी पट्टी में सवर्ण-मध्यवर्ग के बड़े हिस्से, खासकर युवा-अधेड़ ने नरेंद्र मोदी को अपना ‘महानायक’ मान लिया है. उसे अपने महानायक की आलोचना बर्दाश्त नहीं. मोदी की कॉरपोरेट-पक्षी आर्थिक नीति, सांप्रदायिक सोच या ‘एक्सक्लूजन’ बढ़ानेवाले गवर्नेस मॉडल में इस वर्ग को कुछ भी खराबी नहीं दिखती. इस वर्ग ने मान लिया है कि सत्ता में उसके महानायक के आते ही देश की सारी समस्याएं फुर्र हो जायेंगी