पोस्ट

जून 1, 2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

भारत के ईसाइकरण की सम्प्रदायिकता और चुप मीडिया

इमेज
भारतीय स्वाभिमान और शौर्य का उदघोष 'संत' के बाने का सच तारीख: 10 May 2014 15:56:16 मोरेश्वर जोशी पाञ्चजन्य से  श्व के प्रसार माध्यमों तथा अन्य अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठियों में ईसाइयत के प्रमुख पोप भाईचारे से रहने की बात भले करते हों किंतु पहले के उन दो पोप को व्यावहारिकता में चर्च द्वारा उनकी शह पर विश्व के पचास देशों को पांच सदी तक लूटते रहने तथा अपने फैलाव के लिए नरसंहार तक की सीमा तक जाने के लिए ज्यादा जाना जाता है जिन्हें अप्रेल के अंतिम सप्ताह में वेटिकन में संतई की उपाधि दी गई। वैसे दुनिया में पोप की छवि शांतिदूत जैसी बनाने की लाख कोशिशें की जाती हैं। लेकिन अगर उन दो पोप के कार्यकाल का लेखा-जोखा लिया जाय तो पिछली पांच सदियों में विश्व में चर्च की शह पर लूटमार की गई तथा नरसंहार हुआ। आज ये बात स्पष्ट रूप से सामने आ रही है। उन्हें संतई की उपाधि देने के उस कार्यक्रम में दस लाख लोगों का मौजूद होना भी कम आश्चर्य की बात नहीं है। संतई के हकदार बताए गए इन दो पूर्व पोप के दौर में क्या क्या हुआ था उस पर एक नजर डालना अच्छा रहेगा। ईसाई मिशनरियों की मदद से विश्व में जहां

राष्ट्रीय विचारधारा की पूर्ण विजय

इमेज
चिंतन : पूर्ण विजय की ओर तारीख: 31 May 2014 - रमेश पतंगे - 16वीं लोकसभा के चुनावों का आखिरी चरण समाप्त होने के बाद पूरे देश में एक ही सवाल था, ये मोदी की लहर है या सुनामी? ये मोदी लहर थी, इस बारे में दो राय नहीं थी। हरेक राज्य में मतदान प्रतिशत बढ़ा है इससे यह अंदाजा लगा है कि देश भर में मोदी सुनामी थी। चुनाव परिणाम ने उस पर मुहर लगा दी है। नरेंद्र मोदी की विजय क्यों हुई है, इस बारे में मीडिया में अलग अलग मत प्रकट किए जा रहे हैं। कांग्रेसी प्रवक्ता ने अपना मत रखा है। लालूप्रसाद यादव, मुलायम सिंह और चुनाव में पराभूत अन्य नेता भी अपना मत रख रहे हैं। इन लोगों ने पहले जो कुछ कहा, वही राग अब भी अलाप रहे हैं और आगे भी यही जारी रहेगा। इन सभी लोगों ने नरेंद्र मोदी को 'सांप्रदायिक नेता' बताया। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी ने चुनाव में बड़ी सफाई से जाति का मुद्दा भी उठाया और धर्म का मुद्दा भी। वे आगे कहेंगे कि, यह विजय भाजपा की नहीं बल्कि एक व्यक्ति मोदी की है और किसी व्यक्ति को पार्टी से बड़ा बनाना अच्छा नहीं होता है, इससे तानाशाही का खतरा पैदा हो जाता है। उनका कहना है, नरेंद

BBC : मोदी विरोधी एक तरफा कवरेज की कड़ी आलोचना

ब्रिटिश सांसद के निशाने पर BBC, मोदी की एक तरफा कवरेज की कड़ी आलोचना की dainikbhaskar.com|Jun 01, 2014, लंदन। भारत के नए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर बीबीसी की एकतरफा कवरेज के कथित मामले में भारतीय मूल की एक ब्रिटिश सांसद ने तीखी आलोचना की है। भारतीय प्रवासी मामलों में दखल देने वाली प्रीती पटेल ने कहा है कि कवरेज में जो कुछ कहा गया, उसका कोई तुक नहीं था। उन्होंने बीबीसी के महानिदेशक लॉर्ड टोनी हॉल को लिखे पत्र में कहा है, "भारतीय आम चुनाव की कवरेज के दौरान 16 मई को परिणामों की घोषणा पर बीबीसी के कार्यक्रम न्यूज नाइट के सबंध में ब्रिटेन में बसे भारतीय समुदाय के लोगों से कई शिकायतें मिली हैं।" पटेल ने पत्र में लिखा है, "ब्रिटिश भारतीय समुदाय के कई लोग, खासकर गुजराती मूल के लोग प्रधानमंत्री चुने गए मोदी को लेकर बीबीसी द्वारा की गई रिपोर्टिंग से अपमानित महसूस कर रहे हैं।" आपको बता दें कि ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन ने पटेल को इंडियन डायसपोरा चैम्पियन नियुक्त किया है। लंदन। भारत के नए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर बीबीसी की एकतरफा कवरेज के कथ

सरकार और लोगों के बीच सेतु बनें पार्टी नेता : नरेन्द्र मोदी

इमेज
सरकार और लोगों के बीच सेतु बनें पार्टी नेता : नरेन्द्र मोदी जनसत्ता ब्यूरो http://www.jansatta.com नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा महासचिवों से मुलाकात की और संगठन के मुद्दों सहित कुछ प्रमुख राज्यों में विधानसभा चुनावों से पहले पार्टी को मजबूत बनाने के उपायों पर चर्चा की। उन्होंने महासचिवों से कहा कि वे सरकार और आम आदमी के बीच सेतु का काम करें। मोदी ने अपने आवास पर सुबह के नाश्ते पर पार्टी के दस महासचिवों से एक घंटे से अधिक समय तक चर्चा की। बैठक में उन्होंने सुशासन और पार्टी को मजबूत करने के लिहाज से महासचिवों के सुझाव सुने। मोदी ने पार्टी नेताओं से कहा कि वे जनता और सरकार के बीच सेतु का कार्य करें। प्रधानमंत्री पद का कार्यभार संभालने के बाद उन्होंने इस तरह की पहली बैठक बुलाई थी। मोदी अन्य पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं से रविवार की शाम अशोक रोड स्थित भाजपा मुख्यालय पर मुलाकात करेंगे। जमीनी स्तर पर कार्यकर्ताओं से संपर्क बनाने और लोकसभा चुनावों में पार्टी की जबर्दस्त विजय के लिए उनका धन्यवाद करने के उद्देश्य से पार्टी मुख्यालय पर यह बैठक होगी। समझा जाता है कि य