पोस्ट

जुलाई 7, 2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

राम माधव और शिव प्रकाश : भाजपा में शामिल

चित्र
संघ प्रवक्ता 'राम माधव' बीजेपी में हुए शामिल नवभारतटाइम्स.कॉम | Jul 7, 2014 http://navbharattimes.indiatimes.com नई दिल्ली सोमवार को आरएसएस के प्रवक्ता रहे राम माधव की बीजेपी में एंट्री हो गई है । मोदी के करीबी माने जाने वाले माधव के अलावा संघ के दूसरे बड़े नेता शिव प्रकाश भी भाजपा  में शामिल हुए हैं। बीजेपी की ओर से जल्द ही इस बारे में आधिकारिक ऐलान किया जाएगा। सूत्रों के मुताबिक मध्य प्रदेश के उज्जैन में हुई राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की बैठक में राम माधव और शिव प्रकाश को बीजेपी में भेजने का फैसला किया गया। राम माधव आरएसएस के प्रवक्ता रहे हैं, जबकि शिव प्रकाश प्रांत प्रचारक थे। सूत्रों के मुताबिक राम माधव को उनके कद के अनुरूप पार्टी में स्थान दिया जाएगा। चर्चा है कि राम माधव को सीधे बीजेपी महासचिव बनाया जा सकता है। बीजेपी के नए अध्यक्ष की टीम में माधव सक्रिय भूमिका में नजर आ सकते हैं। ------------------------------ बदलेगा भाजपा का चेहरा, राम माधव को मिलेगी अहम जिम्मेदारी! http://www.jagran.com/news धनंजय प्रताप सिंह ,वीरेंद्र जैन मोहनखेड़ा।  राष्ट्रीय स्वयंस

स्विट्जरलैंड अनैतिक और आपराधिक शत्रु राष्ट्र जैसा

चित्र
***** स्विट्जरलैंड अनैतिक और आपराधिक शत्रु राष्ट्र जैसा***** स्विट्जरलैंड को दुश्मन देश घोषित करना चाहिए और एक राष्ट्र के रूपमें उसकी मान्यता भी समाप्त करवानी चाहिए । जो देश किसी दूसरे देश कइ सत्ता शत्रु जैसा व्यवहार करे वह मित्र कैसे हो सकता है !  स्विट्जरलैंड के बैंकों को किसी भी देश में आर्थिक अपराधों को बढावा देने और कर चोरी में षड्यंत्रकारी बनाने का अधिकार किसने दे दिया । इसे शत्रु राष्ट्र घोषित करें और इसकी कालाधन संबंधी गतिविधियों को देश पर हमला घोषित करें ! ------------------- काले धन पर स्विस बैंक का दो टूक जवाब- जो उचित है वहीं अनुरोध करें भारत http://www.aapkisaheli.com Source : Ashish नई दिल्ली/ज्यूरिख। काले धन की जांच में सहयोग को लेकर भारत के बढ़ते दबाव के बीच स्विट्जरलैंड के बैंकों ने कहा है कि वे नियमों का क़डाई से पालन करते हैं। भारत को इस संबंध में पूरी तरह न्यायोचित अनुरोध ही करना चाहिए। एसोसिएशन ऑफ फॉरेन बैंक्स इन स्विट्जरलैंड का भी मानना है कि स्पष्ट एवं पारदर्शी नीति अपना कर आशंकाओं को दूर किया जा सकता है। उसने कहा है कि केवल अटकलों के आधार पर सार्वज