पोस्ट

जुलाई 10, 2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

'नमामि गंगे' मिशन : मानो तो में गंगा माँ हूँ न मानो तो बहता पानी

इमेज
भारतियों  की आस्था और पवित्रता की आदी - अनादी - अनंत प्रवाह मानो तो में गंगा माँ हूँ न मानो तो बहता पानी गंगा को निर्मल बनाने को चलेगा 'नमामि गंगे' मिशन Thursday,Jul 10,2014 http://www.jagran.com नई दिल्ली [जागरण ब्यूरो]। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चुनावी वादे को पूरा करते हुए सरकार गंगा को अविरल और निर्मल बनाने के लिए 'नमामि गंगे' मिशन शुरू करेगी। मोदी सरकार ने आम बजट 2014-15 में इसके लिए भारी भरकम राशि (2,037 करोड़ रुपये) का प्रावधान किया है। केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने गुरुवार को मोदी सरकार का पहला आम बजट 2014-15 पेश करते हुए समन्वित गंगा संरक्षण मिशन 'नमामि गंगा' शुरू करने की घोषणा की। जेटली ने कहा कि गंगा के संरक्षण और सुधार पर अब तक काफी धनराशि खर्च हो चुकी है लेकिन वांछित परिणाम नहीं निकले हैं। इसलिए 'नमामि गंगा' मिशन शुरू किया जाएगा। मिशन के लिए आवंटित धनराशि में 1500 करोड़ रुपये राष्ट्रीय स्वच्छ ऊर्जा फंड से आएंगे, जबकि 537 करोड़ रुपये मौजूदा राष्ट्रीय नदी संरक्षण योजना के तहत खर्च किए जाएंगे। जेटली ने गंगा को निर्मल

वि‍त्‍त मंत्री जेटली के पहले बजट की 6 बड़ी घोषणाएं

इमेज
ये हैं जेटली के पहले बजट की 6 बड़ी घोषणाएं और उनके असर POLICY TEAM|Jul 10, 2014 http://money.bhaskar.com/article वि‍त्‍त मंत्री अरुण जेटली के अपने पहले बजट में  लोगों को वोट देने के लि‍ए धन्‍यवाद दि‍या है। आइए  खास बातों पर गौर करते हैं जि‍नका असर लोगों और उद्योग जगत पर दिख सकता है। 1. आयकर में मामूली रि‍यायत इनकम टैक्स से छूट की सीमा दो लाख रुपए से बढ़ा कर 2.5 लाख रुपए की गई। इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80 सी के तहत छूट की सीमा 1.5 लाख रुपए की गई। असर : इसकी वजह से लोग और अधिक बचत कर सकेंगे। इस सेक्शन के तहत ईएलएसएस, एनएससी, यूलिप, ईपीएफ, पीपीएफ, जीपीएफ, एनपीएस आदि में बचत को शामिल किया जाता है। इसका मतलब यह है कि लोग इन विकल्पों में अधिक बचत कर सकेंगे। पहले सेक्शन 80 सी के तहत छूट की सीमा एक लाख रुपए थी। इससे लोगों के हाथों में खर्च के लिए हर साल 50 हजार रुपए अधिक होंगे। 2. शहरों के वि‍कास पर घोषणाएं सात शहरों में स्मार्ट इंडस्ट्रियल सिटी शहरी नवीनीकरण कार्यक्रम के तहत पीपीपी मॉडल के जरिए काम किया जाएगा। पीपीपी मॉडल के जरिए कम से कम 500 आदर्श शहर बनाए जाएंगे। टियर ट

आचार्य रघुवीर : संस्कृति के उन्नायक

इमेज
आचार्य रघुवीर : संस्कृति के उन्नायक जन्म-30 दिसम्बर, 1902 ई., निधन- 14 मई, 1963 ई. भारतीय संस्कृति, प्राचीन धरोहर तथा शब्द सम्पदा के उन्नयन के लिए जिन मनीषियों ने पूर्ण समर्पण भाव से कार्य किया उनमें आचार्य रघुवीर का नाम अग्रणी है। आचार्य रघुवीर का जन्म 30 दिसम्बर, 1902 को पश्चिमी पंजाब के रावलपिण्डी नगर में एक प्रतिष्ठित अग्रवाल परिवार में हुआ था। उनके पिता लाला मुंशीराम एक आदर्श शिक्षक थे। उन्हीं के संस्कारों से प्रेरित श्री रघुवीर ने युवावस्था में ही हिन्दी, संस्कृत, अंग्रेजी तथा बंगला आदि का अध्ययन किया और अपना लक्ष्य भारतीय संस्कृति का प्रचार-प्रसार निर्धारित कर लिया था। पंजाब वि·श्वविद्यालय से पी.एच.डी. करने के बाद उन्होंने प्रचलित अंग्रेजी तथा उर्दू-फारसी के शब्दों की जगह हिन्दी शब्दों के निर्माण का संकल्प लिया। स्वाधीनता प्राप्ति के बाद जब हिन्दी में पारिभाषिक शब्दों के निर्माण का प्रश्न आया तो आचार्य रघुवीर ने इस चुनौती को स्वीकार किया। उन्होंने कहा "हिन्दी का मूल संस्कृत में है और संस्कृत इतनी समृद्ध भाषा है कि उसकी धातुओं और उपसर्गों के सहयोग से अनन्त शब्दो

मरणासन्न अर्थव्यवस्था के लिए संजीवनी है यह बजट : नरेंद्र मोदी

इमेज
मरणासन्न अर्थव्यवस्था के लिए संजीवनी है यह बजट : मोदी भाषा | Jul 10, 2014 नई दिल्ली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी सरकार के पहले आम बजट को 'मरणासन्न अर्थव्यवस्था के लिए संजीवनी' करार दिया है। पीएम ने कहा कि उनकी सरकार भारत को संकट से बाहर निकालने के लिए हर संभव कोशिश करेगी और ऐसा करके भी दिखाएगी। उन्होंने कहा कि यह विश्वास उन्हें 125 करोड़ भारतीयों की क्षमता और ताकत की वजह से है। वित्त मंत्री अरुण जेटली को उनके पहले बजट के लिए बधाई देते हुए मोदी नेे कहा कि इस बजट ने जनता की उम्मीदों और आकांक्षाओं को विश्वास में बदल दिया है। उन्होंने विश्वास जताया कि यह बजट भारत को तरक्की की नई ऊंचाइयों पर पहुंचाएगा। इस बजट को उन्होंने गरीबों और समाज के वंचित तबकों के लिए उम्मीद की किरण बताया। उन्होंने कहा, 'मरणासन्न अर्थव्यवस्था के लिए यह बजट अंतिम पंक्ति में खड़े आदमी के लिए एक संजीवनी और अरुणोदय के रूप में आया है।' प्रधानमंत्री ने कहा कि यह बजट जनभागीदारी और जनशक्ति को बढ़ावा देगा। उन्होंने कहा, 'यह बजट भारत को आधुनिक टेक्नॉलजी यूज करते हुए और ज्यादा डिजिटल बनाने क