पोस्ट

जुलाई 25, 2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

अटॉर्नी जनरल : विपक्ष के नेता के पद की हकदार नहीं कांग्रेस

विपक्ष के नेता के पद की हकदार नहीं कांग्रेसः अटॉर्नी जनरल नवभारतटाइम्स.कॉम | Jul 25, 2014, नई दिल्ली भारत के अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने कहा है कि कांग्रेस को लोकसभा में विपक्ष के नेता का पद नहीं मिलना चाहिए। रोहतगी ने कहा है कि इसके लिए कोरम के बराबर यानी लोकसभा में कम से कम 10 फीसदी सीटें पार्टी के पास होनी चाहिए, तभी किसी पार्टी को नेता विपक्ष का पद मिल सकता है। सरकार ने इस मुद्दे पर अटॉर्नी जनरल से राय मांगी थी। कांग्रेस ने अटॉर्नी जनरल की राय को अहमियत न देते हुए कहा है कि उनकी राय कोई बंधन नहीं है। कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने टाइम्स नाउ से बातचीत में कहा कि अटॉर्नी जनरल की राय मानने के लिए संसद बाध्य नहीं है। उन्होंने कहा कि अटॉर्नी जनरल की राय से कांग्रेस की मांग की अहमियत कम नहीं होती और सदन में दूसरी सबसे बड़ी पार्टी को मान्यता मिलनी ही चाहिए। वहीं पूर्व केंद्रीय मंत्री गुलाम नबी आजाद ने इसे बेहद दुर्भाग्यपूर्ण बताते हए कहा कि लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन को तटस्थ होकर संसद में विपक्ष की आवाज को उठने देना चाहिए। राज्य सभा में विपक्ष के नेता आजाद ने कहा कि नरेंद्र म

रमजान में बलात्कार ? - उद्धव ठाकरे

चित्र
सबको रोटी दिख रही है, रमजान में मुसलमानों की ओर से किए गए बलात्कार नहीं: उद्धव ठाकरे नई दिल्ली, 25 जुलाई 2014 एक बार फिर अपने सांसदों का बचाव करते हुए शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने अपने मुखपत्र सामना में छपे संपादकीय में सवाल किया है कि रमजान  महीने में कुछ मुसलमान युवक महिलाओं का बलात्कार करते हैं. इस घटना पर कोई कुछ क्यों नहीं कहता है. अंग्रेजी अखबार 'द इंडियन एक्सप्रेस' की खबर के मुताबिक, उद्धव ने संपादकीय में रोटी विवाद को तूल दिए जाने की बात की. उद्धव ठाकरे ने कहा, रोटी खिलाने वाले मामले को जबरदस्ती तूल दिया जा रहा है. रमजान महीने में कुछ मुस्लिम युवक महिलाओं के साथ बलात्कार करते हैं. सभी इस बारे में जानते हैं. मीडिया, राजनीतिक पार्टियां बलात्कार की इन घटनाओं पर तो शांत रहते हैं लेकिन रोटी मामले में नहीं. इस संपादकीय लेख में अफगानिस्तान और बेंगलुरु में हाल के दिनों में हुए बलात्कारों की लिस्ट भी दी गई है. मीडिया और नेताओं पर आरोप लगाते हुए उद्धव ठाकरे ने लिखा, मीडिया और स्वार्थी नेता इस घटना पर तो रोते दिखाई दे रहे हैं लेकिन उन्हें रमजान के पवित्र महीने में अफगा

यूपी : 25 हजार में महिला हुई नीलाम

पुलिस को तुरंत मानव तस्करी में विक्रेता  को गिरफ्तार करना चाहिए  ---------- यूपी : 25 हजार में महिला हुई नीलाम  Jul 25 2014 लखनऊ: उत्तर प्रदेश में बढती बलात्‍कार की घटना के बीच एक सनसनीखेज खबर मिल रही है. खबर है कि यूपी के बुंदेलखंड में एक महिला को नीलाम किया गया है. इस घटना ने यूपी में महिलाओं को स्थिति को उजागर करता है. सूत्रों के हवाले से खबर है कि बुंदेलखंड के मंझगांव थाना क्षेत्र में एक महिला को 25 हजार में नीलाम कर दिया गया. बताया जा रहा है कि मंझगांव थाना क्षेत्र का गांव जराखर में दलित बस्‍ती का रहने वाला एक युवक ने ओडि़शा से एक महिला को लाया था. युवक ने उस महिला को वहां से खरीद कर लाया था. हद तो उस समय हो गयी कि जब उस युवक ने फिर से उस महिला को बेचने का प्रयास किया. इसके‍ लिए उसने कई लोगों से संपर्क किया. महिला को खरीदने के लिए कई लोग सामने आ गये. इस पर युवक ने महिला को बेचने के लिए नीलामी की घोषणा कर दी. सूत्रों के हवाले से खबर है कि गुरुवार को गांव में पचास लोगों के बीच महिला की बोली लगायी गयी. बताया जा रहा है कि नीलामी में एक दूसरे व्‍यक्ति ने उस महिला को महज 25

करगिल विजय के 15 साल : शहीदों को याद

चित्र
नई दिल्ली: करगिल विजय के 15 साल पूरे होने पर द्रास में शहीदों को याद किया गया। इस दौरान सेना प्रमुख जनरल बिक्रम सिंह ने द्रास में बने वार मेमोरियल में शहीदों को श्रद्धांजलि दी। भारतीय सेना के जवानों ने 26 जुलाई 1999 को करगिल लड़ाई में जीत हासिल की थी। सेना ने करगिल में घुस आई पाकिस्तानी सेना और घुसपैठियों को मार भगाया था। द्रास के वार मेमोरियल में शहीदों की याद में दिए जलाए जाएंगे। 26 जुलाई यानी शनिवार को करगिल विजय दिवस के मौके पर नई दिल्ली के इंडिया गेट पर सुबह करीब 9 बजे रक्षा मंत्री तीनों सेनाओं के प्रमुखों के साथ करगिल के शहीदों को श्रद्धांजलि देंगे। वहीं द्रास सेक्टर में वार मेमोरियल में भी शहीदों को श्रद्धांजलि दी जाएगी, लेकिन शनिवार के कार्यक्रम में सेना प्रमुख वहां मौजूद नहीं होंगे। ------------ करगिल युद्ध: सचमुच भारत ने जंग जीती थी? --सुरेश एस डुग्गर--शुक्रवार, 25 जुलाई 2014 कारगिल में मिली सफलता आखिर विजय कैसी? अपनी ही धरती पर लड़े गए युद्ध में अपने ही इलाके को खाली करवाने में पाई गई कामयाबी को क्या फतह या विजय के नामों से पुकारा जाना चाहिए था? आखिर ऐसा क्यों ह