पोस्ट

सितंबर 21, 2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

शारदीय नवरात्रा 25 सितम्बर गुरूवार से

चित्र
शारदीय नवरात्रा 25 सितम्बर गुरूवार से नवरात्रि का दिन १ प्रतिपदा घटस्थापना, शैलपुत्री पूजा   नवरात्रि में आज के दिन का रँग है,पीला २५th सितम्बर २०१४ ( बृहस्पतिवार ) ----------- नवरात्रि का दिन २ द्वितीया ब्रह्मचारिणी पूजा    नवरात्रि में आज के दिन का रँग है हरा २६th सितम्बर २०१४ ( शुक्रवार ) ------------- नवरात्रि का दिन ३ तृतीया सिन्दूर तृतीय / चन्द्रघन्टा पूजा नवरात्रि में आज के दिन का रँग है स्लेटी २७th सितम्बर २०१४ ( शनिवार ) ------------- नवरात्रि का दिन ४    चतुर्थी कुष्माण्डा पूजा /वरद विनायक चौथ उपांग ललिता व्रत    नवरात्रि में आज के दिन का रँग है नारंगी    २८th सितम्बर २०१४ ( रविवार ) -------------- नवरात्रि का दिन ५    पञ्चमी स्कन्दमाता पूजा नवरात्रि में आज के दिन का रँग है सफ़ेद २९th सितम्बर २०१४(सोमवार) ------------------ नवरात्रि का दिन ६    षष्ठी कात्यायनी पूजा नवरात्रि में आज के दिन का रँग है लाल ३०th सितम्बर २०१४(मंगलवार) -------------------- नवरात्रि का दिन ७    सप्तमी सरस्वती आवाहन / कालरात्रि पूजा    नवरात्रि में आज के दिन का रँग है गहरा नीला १st अ

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का इंटरव्यू

चित्र
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का इंटरव्यू आईबीएन-7 | Sep 21, 2014 नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी अमेरिका यात्रा से पहले सीएनएन के वरिष्ठ पत्रकार फरीद जकारिया को एक्सक्लूसिव इंटरव्यू दिया। पढ़िए उस इंटरव्यू के सवालों के जवाबः- फरीद जकारियाः आपके चुनाव के बाद लोगों ने एक प्रश्न दोबारा पूछना शुरू कर दिया है, जो पिछले दो दशकों में कई बार पूछा जा चुका है। वह यह है, कि क्या भारत अगला चीन होगा? क्या भारत स्थिरता से 8 से 9 प्रतिशत की दर से विकास कर पाएगा और खुद को बदलकर दुनिया में बदलाव ला सकेगा? प्रधानमंत्री मोदीः देखिए, भारत को कुछ भी बनने की जरूरत नहीं है। भारत को भारत ही बनना चाहिए। ये वो देश है, जो कभी सोने की चिड़िया कहा जाता था। हम जहां थे, वहां से नीचे आए हैं। फिर से उठने की हमारी संभावनाएं बढ़ी हैं। दूसरी बात है, अगर आप पिछली पांच शताब्दियों या दस शताब्दियों का डिटेल देखेंगे, तो आपके ध्यान में आएगा, कि भारत और चीन ने हमेशा एक साथ विकास किया है। पूरे विश्व की जीडीपी में दोनों का योगदान हमेशा समान रहा है, और पतन भी दोनों का साथ-साथ हुआ है। ये युग फिर से एशिया का आया है। औ