पोस्ट

जुलाई 3, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

सत्य-असत्य : ओमप्रकाश चतुर्वेदी

ऐसा राजतन्त्र जिसे हम लोकतान्त्रिक प्राणी तानाशाही कहते है। मैं भी तानाशाही में यकीन नही रखता था। लेकिन अगर देखें तो तानाशाही ने दुबई को जन्नत बना दिया। 100 % रोजगार। विश्व की सबसे अच्छी कानून व्यवस्था। विश्व स्तर की स्वास्थ्य सेवाएं , हर किसी के लिए। करप्शन फ्री देश। न्यूनतम रिश्वतखोरी। विश्वस्तर की हर सुविधा। न्यूनतम नशाखोरी। कानून तक हर किसी की पहुँच। बलात्कार की एक नाकाम कोशिश आखिरी बार 2007 में हुई थी। आरोपी पठान अगले शुक्रबार को चौराहे पे लटकता हुआ पाया गया था। एक बैंक डकैती हुई थी (नाकाम ) 2005 में। सब के सब आरोपियों को गोली मार दी गयी थी। ज्यादातर शो रूम्स में कांच की ही दीवारें होती है। लोहे के भरी भरकम शटर नही। किसी भी पब्लिक ऑफिस में आप लाइन नही लगा सकते , अपनी आटोमेटिक अपॉइंटमेंट पर्ची लो और सोफे पे बैठकर इंतज़ार करो। आपका नंबर बोलकर बुलाया जायेगा। रोड एक्सीडेंट होने पे चंद ही मिंटो में एम्बुलेंस , फिर पुलिस , सिविल डिफेन्स। और अगर जरूरत पड़े तो हेलीकाप्टर एम्बुलेंस भी हाजिर। आधी रात को भी पश्चिमी औरतें स्कर्ट में घूमती है लेकिन क्या मजाल कि कोई छे