पोस्ट

जुलाई 9, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

स्वयंसेवक के लिए प्रेरणा पुंज थे श्रद्धेय सोहन सिंह जी - मुरलीधर जी, प्रान्त प्रचारक जोधपुर प्रान्त

इमेज
स्वयं के लिए कठोर, कार्यकर्त्ता के लिए निर्मल स्वयंसेवक के लिए प्रेरणा पुंज थे श्रद्धेय सोहन सिंह जी - मुरलीधर जी, प्रान्त प्रचारक जोधपुर प्रान्त   जोधपुर 7 जुलाई 2015.  स्वयं के लिए कठोर और कार्यकर्त्ता के लिए निर्मल ह्रदय रहता था श्रद्धेय सोहन सिंह जी का।  अपनी कठोर दिनचर्या से प्रत्येक स्वयंसेवक के लिए वे एक आदर्श थे , स्वयंसेवक के लिए प्रेरणा पुंज थे।  व्यवस्था एवं स्वच्छता के प्रति वे अत्यंत सवेंदनशील थे. जहा कुछ कमी से लगती वे स्वयं उस काम को करने लग जाते थे। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ जोधपुर प्रान्त के प्रान्त प्रचारक मुरलीधर जी  जोधपुर महानगर द्वारा श्रद्धेय सोहन सिंह को श्रद्धांजलि सभा  में अपने साथ के उनके संस्मरण बतलाते हुए  श्रद्धा सुमन अर्पित कर रहे थे। माननीय सत्यपाल जी हर्ष विभाग संघ चालक जी ने विस्तार से बताया कि कार्यक्रम के प्रत्येक भाग की चिंता और व्यवस्था करते थे परम पूजनीय गुरूजी ने जो स्वयंसेवक के लक्षण बताये है वो सभी माननीय सोहन सिंह जी के जीवन में थे एक एक संघ के कार्यकर्त्ता को उन्होंने गढ़ा था एक एक स्वयंसेवक को नियोजित कर काम में लगाया था.  वे कहा क

पीताम्बरा पीठ दतिया

इमेज
पीताम्बरा पीठ दतिया दतिया नगर झाँसी से 16 मील दूर, झाँसी-ग्वालियर सड़क पर स्थित है। पुराने समय से ही यहाँ के क्षत्रिय प्रसिद्ध रहे हैं। यहाँ कई प्राचीन महल, डाक बँगला, अस्पताल, कारागृह एवं अनेक शिक्षा संस्थाएँ हैं। दतिया का पुराना कस्बा चारों ओर से पत्थर की दीवार से घिरा हुआ है, जिसमें बहुत से महल और उद्यान बने हुए हैं। 17वीं शताब्दी में बना बीर सिंह महल उत्तर भारत के सबसे बेहतरीन इमारतों में माना जाता है। यहां का पीताम्बरा देवी शक्तिपीठ भारत के श्रेष्ठतम और महत्वपूर्ण शक्तिपीठों में एक है। प्रतिवर्ष यहां बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं को आवागमन लगा रहता है। पीताम्बरा पीठ दतिया---श्री बगलामुखी महिमा राज `````````````````````````````````````````````````````` पीताम्बरा पीठ दतिया ज़िला, मध्य प्रदेश में स्थित है। यह देश के लोकप्रिय शक्तिपीठों में से एक है। कहा जाता है कि कभी इस स्थान पर श्मशान हुआ करता था, लेकिन आज एक विश्वप्रसिद्ध मन्दिर है। स्थानील लोगों की मान्यता है कि मुकदमे आदि के सिलसिले में माँ पीताम्बरा का अनुष्ठान सफलता दिलाने वाला होता है। पीताम्बरा पीठ के प्रांगण में